Red Fort In Hindi: दिल्ली में घूमने के लिए कई जगह हैं उन्ही में से एक आकर्षण का केंद्र है लाल किला। भारत में मौजूद सभी किलों में से लाल किला सबसे ज्यादा मशहूर है। यमुना नदी के तट पर बने इस किले को देखने पर मुग़लों के शासन की झलक दिखाई पड़ती है। 256 अकड़ में फैले इस किले में कई तरह के महल हैं जिनके वास्तुकार और शिल्पकारी लाजवाब है। देश विदेश से लोग इस किले को देखने के लिए आते हैं। तो अगर आप भी दिल्ली के लाल किले को घूमने जाना चाहते हैं तो पहले इस लेख को ध्यान से पढ़ें क्युकी आज हम आपको बताने जा रहे हैं लाल किले में घूमने की सभी जगहें और किले से जुड़ी समस्त जानकारी जो किला घूमते वक़्त आपके बड़े काम में आने वाली है।

 

Page Contents

लाल किले का इतिहास | History of Red Fort In Hindi

Red fort in hindi

भारत में 200 वर्षों से ज्यादा शासन करने वाले मुगल साम्राज्य के पांचवें शहंशाह शाहजहाँ ने लाल किले का निर्माण करवाया था। शाहजहाँ अपनी राजधानी आगरा से दिल्ली स्थानांतरण कर रहे थे ऐसे में दिल्ली आने से पूर्व शाहजहाँ ने अपना किला बनाने का आदेश दिया था। लाल किले का निर्माण कार्य 13 मई 1638 को शुरू हुआ इसके लिए खास मुहर्रम का दिन चुना गया। लाल किले की पहली नीव शाहजहां के हुक्म पर इज्जर खान द्वारा रखी गई। लाल किले के वास्तुकार के लिए शाहजहां ने उस्ताद अहमद लाहौरी को चुना था। बता दें की वो उस्ताद अहमद लाहोरी ही थे जिन्होंने शाहजहां की मांग पर ताज महल की वास्तुकारी की थी।

शाहजहां को लाल रंग से गहरा लगाव था। इसी लिए दिल्ली के किले को लाल बलुआ पत्थरों से बनाने का निर्णय लिया गया और तभी से इस किले का नाम लाल किला पड़ा। शाहजहां इस किला को अपने हर एक किला से बड़ा भी बनवाना चाहते थे इसी लिए इस किला को पूरा बनाने में 10 साल का समय लगा। 1648 में इस किले का निर्माण कार्य पूरा हुआ उस समय किले की शिल्पकारी और चमक देखकर सभी आश्चर्यचकित रह गए थे।

कई सालों तक सम्राट शाहजहां का यहाँ राज रहा तब तक दिल्ली का यह किला जिसे शहनाबाद का किला कहा जाता था इसकी खूबसूरती की मिसाल दी जाती रही। शाहजहां के पुत्र औरंगजेब के सत्ता में आने के बाद लाल किले की चमक धीरे धीरे फीकी पड़ती गयी। उसके बाद साल दर साल लाल किले पर कई बार हमले हुए और यहाँ पर कई शासकों का राज रहा। अंग्रेजों के शासन काल में लाल किले के कई हिस्से क्षतिग्रस्त हुए। यहाँ जड़े कई अनमोल रत्न और कीमती चीजों को अंग्रेजों द्वारा चुरा कर ब्रिटेन भेज दिया गया। अंग्रेजों के शासन के बाद जब भारत आजाद हुआ तो लाल किले की भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा दोबारा मरम्मत कराई गई। आज यह किला विश्व धरोहर कहलाता है और दिल्ली की शान बन कर खड़ा हुआ है।

 

लाल किले में आकर्षण का केंद्र | Attractions of Red Fort In Hindi

दिल्ली में स्थित लाल किले की ओर सभी लोग आकर्षित होते हैं। इस किले का निर्माण लाल बलुआ पत्थर से हुआ है जो प्राकर्तिक रूप से लाल है। किले के अंदर कई भवन को बनाने में मार्बल के पत्थर का भी इस्तेमाल हुआ है। लाल किले पर शिल्पकारी कुछ इस प्रकार की गई है की इसे देखकर हर कोई हतप्रभ रह जाता है। यमुना नदी के तट पर बने इस किले की शान कभी कोहिनूर भी हुआ करता था। जिसे बाद में अंग्रेजों द्वारा चुरा लिया गया। लाल किले में मौजूद कई चीजें आज भी आकर्षण का केंद्र हैं चलिए आपको एक-एक करके सभी के बारे में बताते हैं।

 

1. लाहौरी गेट | Lahori Gate in Red Fort in Hindi

lahori gate

यह लाल किले का मुख्या द्वार है। लाहोरी गेट का नाम मुग़ल शासन काल में लाहौर के नाम पर रखा गया था। बता दें की आजादी के बाद यहीं जवाहर लाल नेहरू जी ने तिरंगा फेहराया था। इसके बाद से हर साल स्वतंत्रता दिवस पर यहाँ प्रधानमंत्री द्वारा तिरंगा फेहराया जाता है। इस गेट का आकर्षण इतना लाजवाब है की शाहजहां ने अपने शाशन काल में इस गेट को एक सुंदरी के चेहरे पर घूंगट के सामान बताया था।

 

2. दिल्ली गेट | Delhi Gate in Lal Kila

delhi gate lal kila

दिल्ली गेट का नाम भारत की राजधानी के नाम पर है। यह गेट दक्षिण दिशा का सार्वजनिक प्रवेश द्वार है। यह गेट लाहौरी गेट के समान ही है। इस गेट में दोनो तरफ बड़े पत्थरों से बने हुए हाथी आमने सामने देखते हुए खड़े हैं।

 

3. मुमताज़ महल | Mumtaz Mahal in Lal Kila

mumtaz mahal

यह महल शाहजहाँ ने अपनी प्रिय बेगम मुमताज के लिए बनवाया था, इसलिए इस महल को मुमताज महल के नाम से जाना जाता है। यह महल सफ़ेद संगमरमर से निर्मित है जिस पर फूलों की आकृतियों का आकार दिया गया है। इस महल में पहले महिलाएं रहती थी, अब इस महल को संग्रहालय का रूप दे दिया है। इस संग्रहालय में मुग़लकाल की कई विशेष कलाकृतियों को सहेजकर रखा गया है। संग्रहालय में आप तलवारें, पर्दे, पेंटिंग, कालीन, पोशाक व अन्य वस्तुएं देख सकते हैं।

 

4. खास महल | Khas Mahal in Lal Kila

khas mahal

यह महल मुगल साम्राज्य के शंहशाहों का व्यक्तिगत आवास हुआ करता था। यह महल सफ़ेद मार्वल से निर्मित है, जिस पर फूलों की आकृतियों का आकार दिया हुआ है। खास महल में तीन कक्ष हैं जिसमे से एक है राजसी शयन-कक्ष, दूसरा है प्रार्थना-कक्ष और तीसरा मुसम्मन बुर्ज है। बता दें की इस बुर्ज में ही राजा जनता को दर्शन देते थे।

 

5. रंग महल | Rang Mahal in Red Fort In Hindi

rang mahal lal kila

पहले रंग महल को पैलेस ऑफ कलर्स के नाम से भी जाना जाता था। शहंशाह ने यह विशेष महल अपनी रानियों के लिए बनवाया था। यह महल बेहद ही खूबसूरती से संगमरमर की शिला से तराशा गया है। इस महल के बीचों बीच एक फव्वारा है जिसे कमल के फूल की आकर्ति दी गयी है। इस फब्बारे में यमुना नदी का पानी, नहर के माध्यम से भरा जाता था। नहर को नहर-ए-बहिश्त के नाम से भी जाना जाता था। गर्मियों के दिनों में रंग महल का तापमान ठंडकदायक होता था। रंग महल में सिर्फ शंहशाह और शहजादों को आने की अनुमति होती थी।

 

6. हीरा महल | Heera Mahal in Red Fort

hira mahal

हीरा महल को सम्राट बहादुरशाह द्वितीय ने बेहद भव्य और खूबसूरती से संगमरमर से बनवाया था। कुछ ऐतिहासकार की जानकारी के अनुसार इस महल में सम्राट बहादुरशाह ने कोहिनूर हीरे से भी ज्यादा कीमती हीरा छुपाया था। सन 1857 में अंग्रेजों से हुए विदोह के समय महल का बड़ा हिस्सा नष्ट हो गया।

 

7. मोती मस्जिद | Moti Masjid in Lal Kila

moti masjid

मोती मस्जिद का निर्माण शाहजहां के पुत्र औरंगजेब ने अपनी निजी मस्जिद के रूप में करवाया था। यह मस्जिद, पर्ल मस्जिद के नाम से भी जानी जाती है। इस शाही और भव्य मस्जिद में कई छोटी-छोटी गुंबद और मेहराब, सफ़ेद संगमरमर से बेहद ही खूबसूरत तरीके से निर्मित है। मोती मस्जिद को राजमहल के समीप बनाया गया है इस मस्जिद में एक आंगन भी है।

 

8. दीवाने-ए-आम | Diwan-I-Aam in Lal Quila

deewan ae aam

दीवाने-ए-आम को मुगल शहंशाह शाहजहां ने 1631 से 1640 के बीच बनवाया था। दीवाने-ए-आम एक बहुत बड़ा प्रांगण था, जिसमें सम्राट आम जनता से बात करके उनकी समस्या को हल करते थे। दीवाने-ए-आम की दीवारों पर बेहद सुन्दर नक्काशी की गयी थी जिसे देख सभी अचरज में पड़ जाते थे।

 

9. दीवान-ऐ-ख़ास | Deewan-E-Khas in Lal Quila

deewan i khas

लाल किले में स्थित मुख्या आकर्षण केंद्रों में दीवान-ऐ-ख़ास भी आता है। दीवान ऐ आम के उत्तरी द्वार से आप सीधे दीवान-ऐ-ख़ास पहुंच सकते हैं। माना जाता है की दीवान-ऐ-ख़ास राजा का व्यक्तिगत सभा कक्ष हुआ करता था। यहाँ राजा अपने मंत्री मंडल के साथ कुछ निजी वार्ता किये करते थे। बनावट की बात करें तो ये कक्ष सफ़ेद मार्वल से बना हुआ है जिसके अंदर बहुमुखी रत्नं जड़े गए थे।

 

10. हमाम | Hamaam in Red Fort

Hamaam

हमाम का मतलब स्नानघर होता है यहाँ पहले के राजा महाराज लोग नाहाते थे। यह स्नान घर बहुत बड़े हुआ करते थे इसमें शृंगार ग्रह भी होता था। जब भारत में मुगल शासन आया तब से हमाम में गुलाब के इत्र का भी उपयोग किया जाने लगा था। हमाम में बड़े बाथटब जैसे नहाने के कुंड होते थे जिसमे शाही लोगों के लिए गरम पानी से नहाने का प्रबंध किया जाता था। हमाम में हमेशा दास और दासियाँ उपस्थित रहते थे जो हर तरह का प्रबंध करते थे।

 

11. चट्टा चौक | Chatta Chauk in Red Fort

chatta chauk

लाल किले में लाहोरी गेट के पास ही चट्टा चौक स्थित है। मुगल शासन काल में यहाँ बाजार सजता था। बाजार में महल में रहने वाले समस्त शाही वंश के लोगों के लिए रेशम के कपड़े, आभूषण और अन्य कीमती सामान बेचा जाता था।

 

12. नौबत खाना | Naubat khana in Red Fort

Naubat khana

नौबत खाना को नक्कर खाना के नाम से भी जाना जाता है। चट्टा चौक से लाहोरी गेट की तरफ जाती सड़क से यह पूर्व दिशा में स्थित है। नौबत खाना को संगीतकारों के लिए बनाया गया था। मुग़ल शासन काल में यहाँ संगीत समारोह अक्सर चलता रहता था। बता दें की सन 1857 में अंग्रेजों से विदोह के समय इसके पास के गलियारों को नष्ट कर दिया गया था।

 

लाल किला का प्रवेश शुल्क | Entry Fees of Red fort In Hindi

लाल किला में भारतीय लोगो का प्रवेश शुल्क मात्र 35 रूपये है और विदेशी लोगो का प्रवेश शुल्क 500 रूपये है। यहाँ 5 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए कोई प्रवेश शुल्क नहीं रहता है। लाल किला में शाम को लाइट और साउंड शो भी रहते हैं इन्हे देखने के लिए अलग से टिकिट खरीदना होता है। भारतीय लोगों के लिए वीकेंड (शनिवार और रविवार) पर लाइट शो देखने की फीस 80 रूपए है जबकि मंगलवार से शुक्रवार तक किसी भी लाइट शो की फीस मात्रा 60 रूपए है।

 

लाल किला घूमने का समय | Timings of Lal Kila In Hindi

अगर आप लाल किला घूमने आना चाहते हैं तो बता दें की यह सुबह 9:30 बजे से शाम 4:30 बजे तक खुला रहता है। लाल किला आप मंगलवार से रविवार तक घूम सकते हैं। सोमवार के दिन यह बंद रहता है। शाम को यहाँ लाइट शो भी होते हैं जो की हिंदी और अंग्रेजी दोनों में से आप किसी में भी भाषा देख सकते हैं। लाइट शो यहाँ शाम 7 बजे से शुरू होते हैं। अंग्रेजी और हिंदी भाषा के लाइट शो का टाइम अलग-अलग है। इसके अलावा गर्मी और सर्दियों में भी यहाँ लाइट शो के समय में परिवर्तन कर दिया जाता है।

 

कैसे पहुंचे लाल किला | How to reach Red Fort

जैसा की बताया लाल किला भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित है। तो दिल्ली पहुंचने के लिए आप बस, ट्रैन या हवाई जहाज किसी भी संसाधन का उपयोग कर सकते हैं। चलिए आपको एक-एक करके तीनो संसाधनों के बारे में विस्तार से बताते हैं।

 

  • हवाई जहाज से पहुंचे दिल्ली | Reach Delhi by Aeroplane

दिल्ली में इंदिरा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा है। यहाँ के लिए आपको ना सिर्फ भारत के कई बड़े शहरों से सीधे फ्लाइट मिल जाएगी बल्कि भारत के अलावा लगभग सभी बड़े देशों से भी दिल्ली के लिए सीधे हवाई जहाज की सुविधा उपलब्ध है।

 

  • ट्रेन से पहुंचे दिल्ली | Reach Delhi By Train

दिल्ली में कई रेलवे स्टेशन मौजूद हैं जिनमे से निजाम्मुद्दीन रेलवे स्टेशन और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन प्रख्यात हैं। नई दिल्ली रेलवे स्टेशन भारत के सबसे बड़े रेलवे स्टेशनों में से एक है। यहाँ आने के लिए देश के कोने कोने से ट्रेनें उपलप्ध हैं। हलाकि अगर आप सीधे लाल किला देखने जाना चाहते हैं तो ओल्ड दिल्ली रेलवे स्टेशन आना सही रहेगा। ये स्टेशन लाल किला और जामा मस्जिद से सबसे पास है।

 

  • सड़क से पहुंचे दिल्ली | Reach Delhi by car or by bus

दिल्ली भारत की राजधानी होने के नाते सड़क मार्ग द्वारा भारत के हर हिस्से से जुड़ा हुआ है। यही वजह है की यहाँ आने के लिए जगह जगह से कई लक्ज़री बसें चलती हैं। आप स्वयं की गाड़ी से भी दिल्ली आ सकते हैं।

 

लाल किला जाने का उचित समय | Best time to visit Red Fort

वैसे तो लाल किला साल के किसी भी वक़्त आया जा सकता है यहाँ बारह महीने एंट्री रहती है परन्तु अगर आप यहाँ बिना भीड़ भाड़ के घूमना चाहते हैं तो स्वतंत्रता दिवस या गणतंत्रता दिवस जैसे मौकों पर यहाँ ना आये। दिल्ली में भीषण गर्मी की वजह से अप्रैल से जून तक का समय भी लाल किला घूमने के लिए उपयुक्त नहीं रहता है। मौसम के नजरिये से देखें तो सबसे अच्छा समय ठंडों का रहता है अक्टूबर से फरबरी तक के बीच अगर आप आते हैं तो आप दोपहर में यहाँ हलकी हलकी धुप का आनंद लेते हुए लाल किले में स्थित प्रत्येक स्थान को अच्छे से घूम सकते हैं।

 

लाल किला के आस-पास घूमने की जगहें | Places to visit near Red Fort In Hindi

लाल किला पुरानी दिल्ली में बसा हुआ है। लाल किला के आस पास आपको अच्छा खासा मार्किट देखने को मिलेगा। चांदनी चौक नाम से मशहूर इस मार्किट में घूम कर आप शॉपिंग कर सकते हैं। ये बाजार अपनी सस्ती कीमतों के लिए पूरे भारत में जाना जाता है। लाल किले के पास ही आपको भारत की मशहूर जामा मस्जिद भी मिलेगी ये लाल किले से महज 700 मीटर की दूरी पर है। लाल किले के आस पास देखने के लिए और भी काफी जगहे हैं जैसे की – आर्केलॉजिकल म्यूजियम, राजघाट, पराठे वाली गली, फतेहपुर मस्जिद आदि।

 

मॉडल्स और कई फिल्मी सितारे भी जा चुके हैं लाल किला | Celebrities at Red Fort Delhi

View this post on Instagram

🇮🇳🤾🏼‍♀️🇮🇳 #hifromdelhi

A post shared by Billie Lourd (@praisethelourd) on

 

तो दोस्तों ये थी लाल किले से जुड़ी कुछ जानकारी (Red Fort information in Hindi)। हम आशा करते हैं की आपको लाल किले से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी (Red Fort in hindi) का पता चल गया होगा। अगर आपको जानकारी पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।
हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here