Cornflour in hindi

About Cornflour in Hindi: किसी भी रेसेपी को क्रिस्पी बनाने के लिए हम बाजार में उपलब्ध अलग-अलग तरह के पाउडर का इस्तेमाल करते हैं। यही वजह है कि अब बाजार में कई तरह के पाउडर आने लगे हैं। आज हम ऐसे पाउडर के बारे में बात करने जा रहे हैं जो हर घर में पाया जाता है। जी हाँ दोस्तों हम बात कर रहे हैं कॉर्नफ्लोर पाउडर (Corn flour) की जिसको संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में Corn starch के नाम से जाना जाता है।

कॉर्नफ्लोर पाउडर का उपयोग अक्सर हम किसी भी रेसिपी को फिलर, बाइडिंग, सॉस या किसी भी चीज को गाढ़ा बनाने के लिए करते हैं। लेकिन बता दें कॉर्नफ्लोर एक ऐसा पाउडर है जो रेसेपी को अच्छा बनाने के साथ ही हमारी सेहत को भी बेहतर बनाता है।

दोस्तों cornflour पौष्टिक पाउडर है इसमें अनेके प्रकार के multi vitamins और खनिज पाए जाते हैं जो शरीर को स्वस्थ बनाने के लिए आवश्यक होते हैं। अतः आपने अभी तक कॉर्नफ्लोर पाउडर का उपयोग केवल खाने का जायका बढ़ाने के लिए ही किया होगा लेकिन आज का लेख पढ़ने के बाद आप कॉर्नफ्लोर का उपयोग स्वास्थ को बेहतर बनाने के लिए भी करने लगेगें। आज हम आपको ना सिर्फ कॉर्नफ्लोर के फायदों से परिचित करवाएंगे बल्कि इसकी सपूर्ण जानकारी विस्तार से देंगे।

 

Page Contents

क्या है कॉर्नफ्लोर | What is Corn Flour in Hindi

कॉर्नफ्लोर एक पतला बारीक पाउडर होता है जो कॉर्न के इंडो स्टम्प्स से बनता है इसलिए इसका रंग सफ़ेद होता है। कॉर्नफ्लोर बेकिंग सोडा की तरह दिखाई देता है। कई जगहों पर जैसी कि यूनाइटेड, किंगडम और भारत में कॉर्नफ्लोर को Cornflour के नाम से जाना जाता है जबकि इटली और फ्रांस जैसे देशों में इसे माइज़ेना (Maizena) के नाम से जाना जाता है। कॉर्नफ्लोर को मक्का के दाने के सफ़ेद स्टार्च से तैयार किया जाता है इसलिए इसको corn starch भी कहा जाता जाता है।

 

कॉर्नफ्लोर और मकई के आटे में अंतर | Difference between Corn Flour & Maze Flour

corn flour vs maze flour

दोस्तों अधिकतर लोग कॉर्नफ्लोर और मकई के आटे (Maze flour) को एक ही मानते हैं जिसकी वजह से कई बार लोगों के व्यंजन ठीक तरह से नहीं बनते हैं। बता दें की कॉर्नफ्लोर मकई का आटा नहीं होता है यदि आपके मन में भी कॉर्नफ्लोर और मकई के आटे के सन्दर्भ में कुछ भ्रांतियां हैं तो आज हम मकई और कॉर्नफ्लोर के अंतर को बताकर आपकी भ्रांतियों को दूर कर देते हैं।

Cornflour को मकई के दानों के ऊपर का छिलका निकालने के बाद तैयार किया जाता है। जबकि Maze flour को मकई के दानों को सुखाकर छिलका सहित तैयार किया जाता है। मकई का आटा पीला और मोटा होता है। इसके विपरीत कॉर्नफ्लोर सफ़ेद और महीन बारीक़ होता है। मकई के आटे का उपयोग बाफला, ढोकला, रोटी, पराठें बनाने में तो किया जाता है लेकिन binding dish बनाने के लिए नहीं किया जाता। जबकि कॉर्नफ्लोर का उपयोग बाइडिंग डिश बनाने के लिए ही किया जाता है।

 

कॉर्नफ्लोर में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व | Nutrients of Corn Flour in Hindi

अभी तक अपने कॉर्नफ्लोर का उपयोग केवल बेहतरीन स्वाद पाने के लिए ही होगा। आपने शायद ही कभी ये जानने की कोशिश की हो की इसमें कौन कौन से पौष्टिक पोषक तत्व पाए जाते हैं। यदि आप कॉर्नफ्लोर में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्वों से अनजान हैं तो चलिए अब आपको इनसे रूबरू करवाते हैं।

स्मूथ और सफ़ेद कॉर्नफ्लोर में विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, थाइमिन, नियासिन, राइबोफ्लेविन (Riboflavin), विटामिन बी 9, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस, जिंक, प्रोटीन, फाइबर, कैलोरी, विटामिन ई, antioxidant तत्व उच्च स्तर में पाए जाते हैं। ये शरीर को स्वस्थ बनाने के लिए अहम होते हैं।

 

कॉर्नफ्लोर के फायदे | Benefits of Corn Flour in Hindi

cornflour benefits in hindi

कॉर्नफ्लोर एक ऐसा पाउडर है जो शरीर को फिट और हेल्दी बनाने के लिए फायदेमंद होता है। इसलिए अब हम आपको कॉर्नफ्लोर से होने वाले फायदों से अवगत कराने जा रहे हैं जिनको जानने के बाद आप भी cornflour का इस्तेमाल करने लगेंगे।

 

1. सूजन को कम करता है | It helps to reduce inflammation

शरीर के किसी भी भाग में सूजन (inflammation) का होना किसी न किसी बीमारी का संकेत होता है। इसलिए सूजन को भी सामान्य या हल्के में नहीं लेना चाहिए। हालाँकि कई बार सूजन अत्यधिक खटाई खाने से और किसी प्रकार की चोट लगने पर भी आ जाती है लेकिन सूजन किसी भी तरह की उसको खत्म करना आवश्यक होता है। सूजन को कम करने के लिए आप कॉर्नफ्लोर पाउडर का उपयोग कर सकते हैं। कॉर्नफ्लोर में पॉलीफेनोल्स एंटीओक्सिडेंट (Polyphenols antioxidants) तत्व पाया जाता है जो सूजन को धीरे-धीरे काम करने में फायदेमंद होता है।

 

2. आंतों के लिए फायदेमंद होता है | It is beneficial for the intestines

आँतों (intestines) के माध्यम से ही पचा हुआ हुआ भोजन हमारे शरीर से बाहर निकलता है अर्थात भोजन का पचा हुआ आखिर हिस्सा आँतों के द्वारा ही बाहर निकलता है। यदि आँतों में किसी भी तरह की खराबी होती है तो आंत में अवशिष्ट पदार्थ के रूप में मल जम जाता है जो कब्ज बबासीर जैसी कई बीमारियों को उत्पन्न करने का कारण बनता है। इसलिए आँतों को स्वस्थ रखना बेहद जरुरी होता है। आंतों की सफाई के लिए corn flour लाभकारी पाउडर होता है। इसमें Insoluble fiber पाया जाता है जो आंतों को मजबूत और स्वस्थ बनाता है।

 

3. फ्री रेडिकल्स के खतरे कम करता है | Corn Flour reduces the risk of free radicals

हमारे शरीर में अनेक कोशिकायें होती हैं एवं स्वस्थ कोशिकाओं से ही स्वस्थ शरीर शरीर का निर्माण होता है। मानव शरीर में प्राकृतिक रूप से कुछ फ्री रेडिकल्स मौजूद होते हैं व कुछ free radicals भोजन करने के उपरान्त निकलते हैं। फ्री रेडिकल्स मानवीय शरीर के लिए बेहद घातक होते हैं क्यूंकि यह दूसरे अणुओं से electron को ग्रहण करने की क्षमता रखते हैं जिसकी वजह से अणु और dna प्रभावित होता है और परिणाम स्वरुप कई गंभीर बीमारियां शरीर के अंदर विकसित हो जाती हैं। यदि आप फ्री रेडिकल्स से शरीर का बचाव करना चाहते हैं तो आप cornflour का उपयोग कर सकते हैं। कॉर्नफ्लोर में एंटी-ऑक्सीडेंट्स तत्व पाए जाते हैं जो फ्री रेडिकल्स के खतरे को कम करते हैं।

 

4. वजन में वृद्धि करता है | Increase your weight with Cornflour in Hindi

वजन कम होने का मुख्या कारण होता है शरीर में vitamins की कमी। यदि शरीर में पर्याप्त मात्रा में विटामिन्स और खनिज नहीं होते तो शरीर का ना सिर्फ वजन कम कम होता है बल्कि शरीर कमजोर भी हो जाता है। इसलिए हमें प्रतिदिन जरुरी पौष्टिक तत्वों का सेवन करना चाहिए। सिर्फ मोटापा बढ़ने से ही शरीर कई बीमारियां से ग्रस्त नहीं होता है अपितु अत्यधिक पतला या वजन का कम होना भी कई बिमारियों को बढ़ावा देता है।

यही वजह है कि जो लोग मोटे होते हैं वो पतले होने के उपयों को खोजते हैं और जो लोग पतले हैं वो मोटे होने के उपायों को ढूढ़ते हैं। बता दें कि आप कॉर्नफ्लोर कि मदद से अपना वजन बड़ा सकते हैं। दलअसल कॉर्नफ्लोर में कार्बोहाइड्रेट और कैलोरी पाई जाती है। ये वजन बढ़ाने वाले तत्व होते हैं। अतः कॉर्लफ्लोर का सेवन करने से आप सरलता से अपना वजन बड़ा सकते हैं।

 

5. एनीमिया रोगियों के लिए है फायदेमंद | Helps to fight with anemia

मनुष्य के शरीर को प्रतिदिन minerals की जरूरत होती है। इन्हीं मिनरल्स में से एक है आयरन। अतः शरीर में आयरन की मात्रा पार्यप्त होना बेहद जरुरी है। बता दें कि हमारा शरीर आयरन के द्वारा ही Hemoglobin का निर्माण करता है। आयरन कि कमी से हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो जाता है और परिणाम स्वरुप हमारा शरीर एनीमिया रोग से पीड़ित हो जाता है।

एनीमिया (खून की कमी) से लोगों को ना सिर्फ थकान एवं कमजोरी होतीं है अपितु वे कई रोगों से ग्रस्त भी हो जाते हैं। खून की कमी यानी कि anemia से छुटकारा पाने के लिए आप कॉर्नफ्लोर का इस्तेमाल कर सकते हैं। कॉर्नफ्लोर में विटामिन बी 12, फोलिक एसिड और आयरन जैसे तत्व पाए जाते हैं जो एनीमिया रोगियों के लिए फायदेमंद होते हैं।

 

6. शिशु का वजन बढ़ाता है कॉर्नफ्लोर | It increases the weight of infants

गर्भवस्था के दौरान संतुलित आहार का सेवन नहीं करने की वजह से या अन्य कई कारणों से गर्भ में पल रहे शिशु का वजन नहीं बढ़ पाटा है जिसकी वजह से शिशु और माँ को कई समस्याओं का समाना करना पड़ता है। Corn flour पाउडर गर्भवती महिलाओं के लिए बेहद फायदेमंद होता है। कॉर्नफ्लोर में फोलिक एसिड (Folic acid) भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो गर्भ में पल रहे शिशु का वजन बढ़ाने में मदद करता है।

 

7. त्वचा विकारों में है फायदेमंद | Remove skin disorder with Cornflour in Hindi

त्वचा संबंधी कई प्रकार के रोग होते हैं एवं बदलते वातावरण के दौरान कभी न कभी किसी भी व्यक्ति को त्वचा सम्बन्धी रोग हो जाते हैं। हालंकि त्वचा समाधी बीमारियां शुरुआत में शरीर के किसी एक भाग में होती हैं लेकिन धीरे-धीरे यह सम्पूर्ण शरीर को अपना शिकार बना लेती हैं। इसलिए सही समय पर इनकी रोकधाम करना आवश्यक होता है। बता दें कि कॉर्नफ्लोर में एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant), विटामिन ए और विटामिन ई पाया जाता है जो कि त्वचा सम्बन्धी विकारों को नष्ट करने में मदद करते हैं।

 

8. हाइपरटेंशन को करता है कंट्रोल | It controls Hypertension

हाइपरटेंशन यानी हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से कई लोग पीड़ित हैं। यह एक आम बीमारी है जो दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है। दरअसल hypertension गलत खान-पान, मोटापा और अव्यवस्थित जीवनशैली और अत्यधिक तनाव की वजह से किसी भी व्यक्ति को हो सकता है।

हाइपरटेंशन का यदि समय पर इलाज नहीं किया जाता है तो यह कई तरह के ह्रदय रोगों को बढ़ावा देता है। इस गंभीर समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप कॉर्नफ्लोर का उपयोग कर सकते हैं। कॉर्नफ्लोर में फाइबर, ओमेगा-3 फैटी और एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं जो हाइपरटेंशन को कंट्रोल करने में मदद करते हैं।

 

कॉर्नफ्लोर के अन्य फायदे | Some Other Benefits of Cornflour in Hindi

1. कॉर्नफ्लोर फाइबर युक्त होता है जिसकी वजह से आसानी से कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) को नियंत्रित किया जा सकता है।

3. कमजोरी और थकान को कम करने के लिए कॉर्नफ्लोर फायदेमंद है। कॉर्नफ्लोर में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और कैलोरी उच्च मात्रा में पाई जाती है जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में मदद करती है।

4. आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए आप कॉर्नफ्लोर का इस्तेमाल कर सकते हैं। कॉर्नफ्लोर में कैरोटीनॉयड (Carotenoid) और विटामिन A पाया जाता है जो आँखों की रोशनी को बढ़ाने में सहायक होता है।

5. कॉर्नफ्लोर में फाइबर पाया जाता है जिसके इस्तेमाल आप पाचन तंत्र को मजबूत बना सकते हैं।

6. कॉर्नफ्लोर में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो सनबर्न और धुप से जली हुई त्वचा को ठीक करने में फायदेमंद होते हैं।

 

कॉर्नफ्लोर का उपयोग | Uses of Cornflour in Hindi

Cornflour uses in hindi

कॉर्नफ्लोर स्वास्थ के लिए बेहतरीन पाउडर है जिसका इस्तेमाल आप कई तरह से कर सकते हैं। चूँकि कॉर्नफ्लोर का उपयोग व्यंजनों को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है। यदि आप यह नहीं जानते हैं कि कॉर्नफ्लोर का उपयोग किस प्रकार के व्यजनों में किया जा सकता है तो चलिए अब हम आपको बताते हैं कॉर्नफ्लोर का उपयोग करने के विभिन्न तरीके।

1. कॉर्नफ्लोर का उपयोग आलू टिक्की, केला टिक्की, पोहा टिक्की को क्रिस्पी बनाने के लिए किया जा सकता है।

2. किसी भी तरह की सब्जी की ग्रेवी को गाढ़ा करने के लिए कॉर्नफ्लोर का उपयोग किया जा सकता है।

3. फ्रेंच फ्राई को क्रिस्पी बनाने के लिए कॉर्नफ्लोर का उपयोग किया जाता है।

4. गुलाब जामुन, रस मलाई, छैना में कॉर्नफ्लोर का उपयोग कर सकते हैं।

5. हलवा और कुकीज में भी इसका उपयोग किया जाता है।

6. फिलर, बाइडिंग और कोफ्ते बनाने में कॉर्नफ्लोर का उपयोग किया जा सकता है।

 

कॉर्नफ्लोर के नुकसान | Side Effects of Corn Flour in Hindi

जैसा की हम जानते हैं कि प्रत्येक चीज में कुछ खूबियां होती हैं तो कुछ कमियां भी होती हैं उसी प्रकार कॉर्नफ्लोर के कुछ फायदें है तो इसके कुछ नुकसान भी हैं। लेकिन इसके क्या नुकसान है यह जानना हमारे लिए जरुरी है तो आइये जानते हैं कि आखिर कॉर्नफ्लोर से किस प्रकार के नुकसान हमारे शरीर को हो सकते हैं।

1. मोटापा से पीड़ित लोगों के लिए कॉर्नफ्लोर का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए क्यूंकि इसमें वजन बढ़ाने वाले तत्व पाए जाते हैं जो मोटे लोगों का और वजन बढ़ा सकते हैं।

2. इसमें कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है जो शरीर में रक्त स्त्राव को बड़ा देता है इसलिए diabetes वाले व्यक्तियों के लिए इसका उपयोग सीमित मात्रा में ही करना चाहिए।

3. कॉर्नफ्लोर का अधिक सेवन करने से अपचय की समस्या हो सकती है।

4. कॉर्नफ्लोर का अधिक सेवन करने से त्वचा पर चकते निकल सकते हैं।

5. कॉर्नफ्लोर में कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने के तत्व पाए जाते हैं लेकिन इसका अत्यधिक मात्रा में उपयोग करने से कॉर्नफ्लोर एलडीएल (LDL Cholesterol) के स्तर को बड़ा देता है जो शरीर के लिए हानिकारक साबित होता है।

 

तो दोस्तों ये थी कॉर्नफ्लोर (cornflour in hindi) से जुड़ी कुछ जानकारी। हम आशा करते हैं की आप कॉर्नफ्लोर के समस्त फायदे और नुकसानों से परिचित हो गए होंगे। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।
हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here