peach fruit in hindi

About Peach Fruit in Hindi: पीच फ्रूट देखने में जितना आकर्षक लगता है खाने में उससे कही अधिक सवादिष्ट होता है यही वजह है कि पीच फ्रूट को देखते ही हर किसी के मुँह में पानी आ जाता है। लगभग आठ हज़ार वर्ष पुराना peach fruit यानी कि आड़ू आज सम्पूर्ण विश्व में एक लोकप्रिय फल बन गया है।

आपने आड़ू का इस्तेमाल अभी तक जैम, जैली और सॉस के रूप में ही किया होगा लेकिन दोस्तों आप ये नहीं जानते होंगे कि आड़ू सिर्फ हमारे खाने का ही स्वाद नहीं बढ़ाता है बल्कि हमारी त्वचा और शरीर को भी हेल्दी बनाता है। अपने अनोखे नाम की तरह ही peach fruit में अनोखी खूबियां भी पाई जाती हैं जो मनुष्य के लिए बेहद ही फायदेमंद होती हैं। आज हम आपको आड़ू की इन्ही खूबियों से परिचित करवाएंगे साथ ही आड़ू से जुड़ी कुछ और ज्ञानवर्धक बातें भी बताएंगे।

 

Page Contents

आखिर आड़ू क्या है | What is Peach Fruit in Hindi

आड़ू शीतोष्ण जलवायु तथा समशीतोष्ण जलवायु में लगने वाला एक प्रसिद्ध फल है जिसको अंग्रेजी में Peach के नाम से जाना जाता है। आड़ू का वानस्पतिक नाम प्रूनस पर्सिका (Prunus persica) है एवं आड़ू रोज़ेशी परिवार से सम्बंधित फल है। आड़ू का वृक्ष लगभग 8 से 20 मीटर तक लम्बा होता है जो उगने के तीन वर्ष बाद फल देता है। आड़ू फल लाल और पीले रंग का होता है इसलिए यह देखने में एकदम आलू बुखारा और सेब फल की तरह लगता है। आड़ू फल का गुदा हल्के पीली रंग का होता है जो खाने में बेहद स्वादिष्ट लगता है। आड़ू फल को ताजा ही खाया जाता है अतः अधिक समय तक आड़ू को आप स्टोर करके नहीं रख सकते। आड़ू फल स्वाद में मीठा व तीखा होता है।

 

आड़ू का उत्पादन कहाँ होता है | Where is Peach Fruit produced

आड़ू मूलतः चीन का फल है अतः सबसे पहले चीन देश ने ही आड़ू का उत्पादन किया था। चीन में उत्पादन के पश्चात आड़ू का उत्पादन ईरान में होने लगा एवं आज आड़ू कि खेती सफलता पूर्वक संपूर्ण विश्व में होने लगी है। भारत में आड़ू कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश आदि जगहों पर बहुआयात में उगाया जाता है।

 

आड़ू की प्रजातियां | Species of Peach Fruit in Hindi

peach fruit tree in hindi

आड़ू फल को मुख्यतः दो प्रजातियों में बांटा गया है।

1. आड़ू की विदेशी प्रजातियां

अलबर्टा, अलैक्ज़ेंडर, चाइना फ्लैट, बिडविल्स अर्ली, कोफोर्ड, पैरीग्रीन, गोल्डन, बुश, अर्बी, फ्लोरिडाज़ ओन, डाक्टर हाग आदि प्रजातियां आड़ू की विदेशी प्रजातियां हैं।

2. आड़ू की देशी प्रजातियां

पेशावरी, आगरा और हरदोई आड़ू की देशी प्रजातियां हैं।

 

आड़ू में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व | Nutrients of Peach Fruit in Hindi

एक फल तभी स्वास्थ के लिए फायदेमंद होता है है जब उसमे पर्याप्त मात्रा में विटामिन्स और खनिज पाए जाते हो। आड़ू में वह सभी पोषक तत्व अधिक मात्रा में पाए जाते हैं जिनकी शरीर को आवश्यकता होती है। बता दें कि आड़ू में कार्बोहाइडेट, फाइबर, विटामिन सी, तांबा, कैल्शियम, लोहा, विटामिन ई, फाइबर, नायसिन पाया जाता है। इसके अतरिक्त आड़ू में पारोडोक्सीन, राबोफलेविन, थायमिन, फॉस्फोरस, मैगनीज, जस्ता, केरोटीन, लुटीन, विटामिन ए, ऊर्जा, पोटैशियम एवं एंटीऑक्सीडेंट जैसे तत्वों की अधिकता पाई जाती है।

 

आड़ू के विभिन्न नाम | Some other names of Peach Fruit

यदि आप ये सोचते हैं की आड़ू को सिर्फ आड़ू या पीच नाम से ही जाना जाता है तो ऐसा नहीं है। आड़ू को भारत में अलग-अलग क्षेत्रों में अलग तरह के नामों से जाना जाता है।

आड़ू का हिंदी में नाम – आड़ू, आलूका

आड़ू का अंग्रेजी में नाम – पीच फ्रूट, नेक्टैरिन

आड़ू का गुजरती में नाम – शफतालू

आड़ू का संस्कृत में नाम – पिचुकम्

आड़ू का फारसी में नाम – शफतालू

आड़ू का कन्नड़ में नाम – पिच्चीसुहन्ने

आड़ू का पंजाबी में नाम – आरु

आड़ू का नेपाली में नाम – आरु

 

आड़ू के फायदे | Benefits of Peach Fruit in Hindi

peach fruit benefits in hindi

आड़ू औषधीय गुणों से परिपूर्ण है इसलिए इसका इस्तेमाल कई तरह की दवाओं में भी किया जाता है। आड़ू केवल शारीरिक व्याधियों को ही ठीक करने की क्षमता नहीं रखता है बल्कि मानसिक विकारों को नष्ट करने की भी क्षमता रखता है। अतः आड़ू किस प्रकार से हमारे स्वास्थ के लिए फायदेमंद है आइए जानते हैं।

 

1. शरीर को बनाता है स्वस्थ

विभिन्न प्रकार के न्यूट्रीएंट्स के साथ ही हमारे शरीर को स्वस्थ बनाने में विटामिन ए का अहम योगदान होता है। विटामिन ए की कमी से अधिकतर आँखों से सम्बंधित रोग जैसे रतौंधी, आँखों का कमजोर होना, आँखों में सूजन आना आदि होने का खतरा बढ़ जाता है इसलिए आँखों को स्वस्थ बनाने के लिए विटामिन ए का सेवन करना बेहद जरुरी होता है। आड़ू में विटामिन ए प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो आपकी आँखों को तो फायदा पहुँचाता ही है साथ ही शरीर में रक्त का स्तर सामान्य बनाये रखता है जिसकी वजह से हड्डियां, त्वचा, नाखून, ग्रंथि, दांत मजबूत और स्वस्थ बने रहते हैं।

 

2. आड़ू इम्यून सिस्टम को बनाता है बेहतर

वर्तमान समय में दिन प्रतिदिन संक्रामक रोग बढ़ते ही जा रहे हैं इसलिए इन रोगों से बचाव करने के लिए हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम यानी प्रतिरक्षा प्रणाली का मजबूत होना अतिआवशयक है क्यूंकि कमजोर इम्यून सिस्टम वाले शरीर को संक्रामक रोग जल्दी अपना शिकार बना लेते हैं। यदि आपका इम्यून सिस्टम कमजोर है तो आड़ू आपके लिए लाभकारी फल है। आड़ू में जिंक, विटामिन सी, फाइबर एवं एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं जो शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।

 

3. आड़ू करता है रेड ब्‍लड सेल्‍स का निर्माण

शरीर में खून की कमी किसी एक कारण से नहीं बल्कि कई कारणों से हो जाती है। आमतौर पर सबसे अधिक खून की कमी महिलायों में ही देखी जाती है। स्त्री हो या पुरुष, शरीर के रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं यानी रेड ब्‍लड सेल्‍स की कमी होने से व्यक्ति खून की कमी से पीड़ित हो जाता है। खून की सही मात्रा बनाये रखने के लिए हमें विटामिन ई, आयरन, कैल्शियम युक्त पौष्टिक फल और सब्जियों का सेवन करना चाहिए। आड़ू में यह सभी तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं जो लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करके खून की कमी को पूरा करने में सहायक होते हैं। गर्भावस्था के समय विटामिन ई का सेवन करने से शिशु और माँ को एनीमिया यानि खून की कमी से बचाया जा सकता है।

 

4. आड़ू स्कर्वी रोग में है फायदेमंद

शरीर में विटामिन सी की कमी के कारण हमारे शरीर में कई रोग हो जाते हैं उन्हीं रोगों में से एक रोग है Scurvy (स्कर्वी)। स्कर्वी रोग एक ऐसा रोग है जो एनीमिया, शरीर के अंगों में दर्द का होना, शरीर के कुछ भागों में सूजन आना, दांतो के मसूड़ों से खून आना, प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना आदि समस्याओं को उत्पन्न कर देता है। यदि आप स्कर्वी रोग से बचना चाहते हैं तो आपके लिए आड़ू बेहद लाभकारी फल है। आड़ू में विटामिन सी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है जो शरीर को स्कर्वी रोग से बचाने के साथ ही विटामिन सी से होने वाले अन्य रोगों से भी शरीर की रक्षा करता है।

 

5. आड़ू मोटापा कम करने में है कारगार

मोटापा मानव शरीर के लिए एक गंभीर समस्या है क्यंकि मोटापा की वजह से ना सिर्फ शारीरक और दैनिक कार्य करने में परेशानियों का सामना करना पड़ता है बल्कि मोटापा के कारण कई तरह की बिमारियों से भी जूझना पड़ता है। जैसे जैसे मोटापा से शारीरिक परेशानियां बढ़ने लगी हैं तो मोटापा से ग्रस्त लोग वजन कम करने के उपायों को खोजने लगते हैं। यदि आप भी वजन कम करने के उपायों को खोज रहे हैं तो आपके लिए आड़ू का उपयोग एक बेहतरीन विकल्प है। आड़ू में फाइबर, मैग्नीशियम, पोटेशियम, विटामिन सी उच्च स्तर में पाए जाते हैं जो वजन को कम करने में मदद करते हैं।

 

6. आड़ू रखता है त्वचा का ख्याल

शरीर की त्वचा संवेदनशील होती है इसलिए बाहरी प्रदूषण की वजह से त्वचा कई तरह के रोगों से ग्रस्त हो जाती है। धूल, मिट्टी, हवा, सूरज की हानिकारक किरणों के कारण त्वचा पर लाल दाने निकल आते हैं, कील मुँहासे हो जाते हैं, सूर्य के संपर्क में आने से त्वचा जल जाती है, झुर्रियां पड़ जाती हैं। त्वचा सम्बन्धी इन सभी समस्याओं से बचने के लिए आप आड़ू का इस्तेमाल कर सकते हैं। आड़ू में विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन ई, राबोफलेविन, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी एजिंग गुण पाए जाते हैं जो त्वचा को uv किरणों और प्रदूषण से बचाकर त्वचा को जवां और खूबसूरत बनाने में सहायक होते हैं।

 

7. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मददगार है आड़ू

विटामिन ई रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला एक मुख्या विटामिन है। यह ना सिर्फ रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है बल्कि शरीर को एलर्जी से बचाता है एवं कोलेस्ट्रॉल को भी कंट्रोल में रखता है। जैसा की हम ऊपर बता चुके हैं की आड़ू में विटामिन ई प्रचुर मात्रा में पाया जाता है अतः आड़ू का सेवन करके आप अपनी कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बना सकते हैं।

 

8. डायबिटीज रोगियों के लिए है अत्यत्न लाभकारी

मधुमेह से बचाव करने में कार्बोहाइडेट एक महत्पूर्ण यौगिक है। बता दें कि जब हमारा शरीर शुगर की मात्रा को सोखने में असमर्थ हो जाता है तब उस स्थित में मधुमेह यानी डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है। जब भी हम किसी खाध पदार्थ का सेवन करते हैं तो हमारा शरीर कार्बोहाइड्रेट को तोड़कर ग्लूकोज़ में परिवर्तित कर देता है। इस प्रक्रिया के बाद पेंक्रियाज़ से इंसुलिन नामक एक हार्मोंस निकलता है जो शरीर की कोशिकाओं से ग्लूकोज़ को सोखने का निर्देश देता है। आड़ू में कार्बोहाइडेट की अधिकता पाई जाती है। यदि आप आड़ू का इस्तेमाल प्रतिदिन करते हैं तो आप डायबिटीज की बीमारी से अपने शरीर को बचा सकते हैं।

 

9. तनाव से मुक्ति दिलाने में करता है मदद

तनाव को अक्सर हम एक सामान्य रोग मानते हैं लेकिन कई बार यही सामान्य रोग जटिल बनकर व्यक्ति की जान भी ले लेता है। इसलिए तनाव से बचने के लिए व्यक्ति को व्यायाम के आलावा पौष्टिक आहार का सेवन करना भी बेहद आवश्यक है। आड़ू में पोटैशियम, मैग्नीशियम और फाइबर पाया जाता है ये तत्व मस्तिष्क को शांत करके तनाव से मुक्ति दिलाने में मदद करते हैं।

 

आड़ू के अन्य फायदे | Some Other Benefits of Peach Fruit in Hindi

1. आड़ू में विटामिन ई पाया जाता है जो कोलस्ट्रोल को नियंत्रित करता है।

2. आड़ू हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत बनाने में फायदेमंद होता है।

3. आड़ू में पाए जाने वाले विटामिन्स ए और ई आँखों की रोशनी को बढ़ाने में मदद करते हैं।

4. आड़ू में क्लोरोजेनिक और नियोक्लोरोजेनिक एसिड पाया जाता है जो स्तन कैंसर के खतरे को कम कर देता है।

5. आड़ू ऊर्जा का मुख्या स्तोत्र है अतः आड़ू के सेवन से थकान से मुक्ति मिलती है एवं शरीर फुर्तीला बनता है।

6. आड़ू में कई तरह यौगिक पाए जाते हैं जो दिमाग और याददाश्त को मजबूत बनाने में सहायक होते हैं।

 

आड़ू के समस्त उपयोग | Uses of Peach Fruit in Hindi

peach fruit uses in hindi

1. आडू का उपयोग आप व्यायाम या एक्सरसाइज़ के बाद कर सकते हैं।

2. आड़ू का इस्तेमाल आप खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए चटनी के रूप में कर सकते हैं।

3. जैम, जैली, मुरब्बा के रूप में आड़ू का इस्तेमाल किया जा सकता है।

4. आड़ू का उपयोग अनार या चुकंदर के जूस में मिलाकर कर सकते हैं।

5. केक के रूप में आप आड़ू का इस्तेमाल कर सकते हैं।

6. जूस बनाकर भी आप आड़ू का उपयोग कर सकते हैं।

 

आड़ू से होने वाले नुकसान | Side Effects of Peach Fruit in Hindi

आड़ू एक पौष्टिक फल है जिसके लाभ अनेक हैं और नुकसान बहुत ही कम है लेकिन नुकसान कम हों या अधिक किसी भी वस्तु का सेवन करने से पहले उसके लाभ और हानि दोनों की जानकारी होना जरुरी है। तो चलिए अब आपको आड़ू से होने वाले नुकसानों के बारे में बताते हैं।

1. आड़ू का अत्यधिक सेवन करने से साँस लेने में दिक्क्त हो सकती है।

2. आड़ू में कुछ ऐसे यौगिक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर में सूजन और गैस की समस्या का कारण बनते हैं।

3. आड़ू में सायनाइड पाया जाता है जो आड़ू के अत्यधिक सेवन से शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।

4. आड़ू का सही तरीके से सेवन नहीं करने से आपको एलर्जी का सामना करना पड़ सकता है।

5. अत्यधिक आड़ू का ज्यादा सेवन करने से प्वाइजनिंग की समस्या हो सकती है।

6. आड़ू का गलत तरीके से उपयोग करने पर मुंह, जीभ और होंठों में सूजन आ सकती है।

 

तो दोस्तों ये थी आड़ू (Peach fruit in hindi) से जुड़ी कुछ जानकारी। हम आशा करते हैं की आप आड़ू के समस्त फायदे और नुकसानों से परिचित हो गए होंगे। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।
हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here