kiwi fruit in hindi

About Kiwi Fruit in Hindi: जो लोग प्रतिदिन फल का सेवन करते हैं वो लोग कम बीमार होते हैं। इसलिए फलों को सेहतमंद डाइट का अहम हिस्सा माना जाता है। फल स्वयं तो खूबसूरत होते ही हैं साथ ही यह मनुष्य की खूबसूरती को भी बरकरार रखते हैं। इसलिए दोस्तों आज हम आपके लिए एक ऐसा फल लेकर आयें हैं जो दिखने में तो अनोखा लगता ही है साथ ही इसमें सेहत को स्वस्थ रखने वाले अनोखे गुणों की भी भरमार है। इस गुणकारी फल को हम सभी कीवी (kiwi) फल के नाम से जानते हैं।

कीवी का इस्तेमाल प्रतिदिन करने से हम अपने शरीर को कई रोगों से बचा सकते हैं। यह अद्भुद फल हमारे शरीर में खनिज और विटामिन्स की कमी को दूर करता है। आमतौर पर लोग Kiwi का उपयोग प्रतिदिन नहीं करते हैं क्यूंकि ये फल अन्य फलों की तुलना में थोड़ा महंगा होता है और अधिकतर लोग कीवी से होने वाले फायदों के बारे में नहीं जानते हैं। यदि आपको भी कीवी के बारे में जानकारी नहीं हैं तो चलिए कीवी के स्वास्थवर्धक फायदों के साथ-साथ इसकी और भी कई जानकारियों से आज हम आपको अवगत कराते हैं।

 

Page Contents

कीवी क्या है | What is Kiwi Fruit in Hindi

कीवी एक विदेशी फल है। सबसे पहले चीन ने कीवी फल का उत्पादन किया था इसलिए कीवी को चीनी फल के नाम से जाना जाता है। चीन में कीवी को चाइनीज गूजबेरी (Chinese gooseberry) के नाम से जाना जाता है। चीन के साथ न्यजीलैंड में भी कीवी का उत्पादन होता था और न्यजीलैंड ने अपने राष्टीय पक्षी kiwi के नाम पर ही चाइनीज गूजबेरी फल का नाम कीवी रखा और फिर इसको विश्वभर में कीवी के नाम से जाना जाने लगा।

बता दें कि कीवी फल वार्षिक फल है जिसका वैज्ञानिक नाम एक्टीनीडिया डेलीसिओसा (Actinidia deliciosa) है। कीवी फल बाहर से देखने पर कुछ-कुछ चीकू की तरह नजर आता है लेकिन अंदर से बिलकुल अलग हरे रंग का मुलायम गूदेदार व रसीला होता है। इसमें काले रंग के छोटे छोटे बीज होते हैं। कीवी फल का खट्टा मीठा स्वाद बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी को बहुत भाता है। खास बात यह है की कीवी फल को पेड़ से तोड़ने के 9-10 दिनों के बाद तक भी खाया जा सकता है। इस फल की एक और खास बात यह है कि इसका कोई हिंदी नाम नहीं है।

 

कैसा होता है कीवी का पेड़ | How is the Kiwi plant

kiwi plant in hindi

कीवी के पेड़ अधिकतर मध्यवर्ती क्षेत्रों में लगाए जाते हैं। Kiwi फल की बेल होती हैं जो लगभग 600 से 1500 मीटर ऊंचाई तक देखने को मिलते हैं। कीवी की बेल में भूरे रंग के छिलके व बारीक रोयें वाले फल लगते हैं।

 

कीवी का उत्पादन | Where is Kiwi Fruit produced

कीवी पर्णपाती पौधा (Deciduous plant) है जो नर और मादा दोनों किस्मों में पाया जाता है अतः प्रत्येक देश अपनी सुविधानुसार कीवी की किस्मों का उत्पादन करता है। चूँकि कीवी चीन का फल है इसलिए सबसे अधिक Kiwi का उत्पादन चीन में होता है। इसके अतरिक्त कीवी का उत्पादन न्यूजीलैंड, ब्राजील, इटली, ईरान, ग्रीस, फ़्रांस में किया जाता है। भारत की बात करें तो हिमाचल एवं उत्तराखंड के अतिरिक्त मेघालय, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश एवं जम्मू कश्मीर जैसे ठन्डे राज्यों में भी कीवी का उत्पादन किया जाता है।

 

कीवी में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व | Nutrients of Kiwi Fruit in Hindi

कीवी फल में विटामिन्स और खनिजों की भरमार होती है। इस फल में एक नहीं बल्कि अनेक तरह के पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं। कीवी में मुख्य रूप से विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन ई पाया जाता है। इसके आलावा कीवी में विटामिन बी 6, पोटैशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, विटामिन बी 12, फॉस्फोरस, फोलेट, विटामिन k, कार्बोहाइड्रेट, सोडियम, फाइबर, नियासिन, थाइमिन, राइबोफ्लेविन, फैटी एसिड टोटल सैचुरेटेड, फैटी एसिड टोटल पॉलीसैचुरेटेड, विटामिन डी, पोटाश, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।

 

कीवी के फायदे | Benefits of Kiwi Fruit in Hindi

kiwi fruit benefits in hindi

कीवी देखने में तो छोटा सा फल है लेकिन इसके फायदे बहुत बड़े-बड़े हैं। कीवी बहुत ही गुणकारी फल है जो मानव शरीर की त्वचा और स्वास्थ दोनों के लिए फायदेमंद है तो चलिए अब आपको कीवी के फायदों के बारे में विस्तार से बताते हैं।

 

1. कीवी सर्दी जुकाम में है लाभकारी

सर्दी जुकाम होने पर सबसे पहले गला एवं नाक प्रभावित होती है। यधपि यह रोग गले और नाक से ही आरम्भ होते हैं लेकिन इन रोगों से पूरा शरीर प्रभावित हो जाता है। सर्दी या जुकाम हो जाने पर साधारणतः नाक से छींक आना, नाक में से पानी आना, सिरदर्द होना, शरीर का तापमान बढ़ना, गले में दर्द होना आदि पीड़ा होने लगती है। बता दें कि सर्दी जुकाम एक सामान्य रोग है लेकिन यदि किसी को बार बार इस रोग से गुजरना पड़ता है तो उन लोगो के लिए ये खतरा बन सकता है। इसलिए सर्दी जुकाम से पीड़ित लोगों के लिए विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर खाध पदार्थों का सेवन करना चाहिए। कीवी में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो सर्दी जुकाम को जड़ से खत्म करने में मदद करते हैं।

 

2. कीवी डायबिटीज में लाभकारी है

मधुमेह के रोगी रोग ग्रस्त होने के बाद यह नहीं समझ पाते है कि आखिर उनको क्या खाना चाहिए जिससे वे इस जटिल रोग को जल्दी कंट्रोल में कर सके। जब मधुमेह रोगी चिकित्सक के पास जाते है तो उसको यह सलाह दी जाती है की शर्करा युक्त खाध सामग्री का सेवन ना करें और मधुमेह की गोलियां खाते रहें ताकि मधुमेह रोग नियंत्रित रहे। दोस्तों बता दें कि सिर्फ एलोपैथिक दवाइयां ही डायबिटीज को नियंत्रित नहीं करती हैं बल्कि आयुर्वेद में कुछ ऐसे फल हैं जो औषधि की तरह काम करते हैं जिसके सेवन से आप कई तरह के रोगों को नियंत्रित कर सकते हैं। जी हाँ दोस्तों इन्ही फलों में से एक फल कीवी है जिसके उपयोग से आप डायबिटीज को कम कर सकते हैं। कीवी में विटामिन सी उच्च मात्रा में पाया जाता है जो इन्सुलिन को कम करने में मदद करता है।

 

3. कीवी अल्सर से बचाने में सहायक है

अल्सर का नाम सुनते ही लोगो का ध्यान सीधा पेट में होने वाले अल्सर की तरफ ही जाता है लेकिन अल्सर एक ऐसा रोग है जो शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है। दलअसल अल्सर रोग अधिक मिर्च मसाले वाला भोजन करने से, अधिक मांसाहार खाने से, प्रोटीन और विटामिन्स रहित भोजन करने से, मधपान एवं धूम्रपान करने से हो जाता है। शोधकर्ताओं का मानना हैं कि अल्सर से बचने के लिए बीटा-कैरोटीन, फाइबर, विटामिन ए और विटमिन सी युक्त फलों का सेवन करना चाहिए। कीवी में फाइबर, विटामिन ए और विटमिन सी के अतरिक्त कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं जो अल्सर की रोकधाम करने में सहायक होते हैं।

 

4. कीवी कब्ज से दिलाता है छुटकारा

कब्ज से मुक्ति पाने के लिए सबसे पहले पाचन तंत्र का सामान्य होना आवश्यक है जब पाचन तंत्र सुचारु रूप से कार्य करता है तो कब्ज की समस्या स्वतः ही खत्म हो जाती है। पाचन तंत्र को ठीक करने के लिए हम कई प्रयोग करते हैं जैसे सुबह खाली पेट गर्म पानी तथा नींबू पानी का सेवन करना लेकिन इन प्रयोगों के बाद भी कई लोगों का पाचन तंत्र ठीक नहीं होता है। जो लोग इस बीमारी से ग्रस्त होते हैं उनके लिए कीवी फल का उपयोग एक बेहतर उपाय है। कीवी में डाइटरी फाइबर पाया जाता है जो पाचन तंत्र और कब्ज दोनों ही बिमारियों को ठीक करने में मदद करता है।

 

5. कीवी दिल को बनाता है स्वस्थ

दिल से सबंधित रोगों का ग्राफ दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। ह्रदय रोगों से व्यक्ति कब ग्रस्त हो जाता है इसका पता व्यक्ति को लम्बे समय बाद चलता है इसलिए ह्रदय को स्वस्थ बनाये रखने के लिए पौष्टिक खाध पदार्थों का सेवन करना चाहिए। कई बार हमारा खून गाढ़ा हो जाता है जिसकी वजह से हार्ट अटैक आने की सम्भावना बढ़ जाती है। बता दें कि गलत खान पान की वजह से कोलेस्ट्रॉल अधिक और रक्त गाढ़ा हो जाता है। कीवी में फाइबर, सोडियम, पोटैशियम, मैग्नीशियम, आयरन, विटामिन बी 12, फॉस्फोरस एवं फोलेट जैसे तत्व पाए जाते हैं जो कोलेस्ट्रॉल को तो नियंत्रित करते ही हैं साथ ही रक्त को भी पतला करने में मदद करते हैं। अतः कीवी के इस्तेमाल से आप दिल को स्वस्थ बना सकते हैं।

 

6. अस्थमा रोग में कीवी है फायदेमंद

श्वांस रोग जिसे अस्थमा या दमा कहते हैं यह श्वसन अंग से जुड़ा हुआ एक व्यापक रोग है। अस्थमा रोग फेफड़ों की झिल्ली में विकार उत्पन होने से होता है। जब व्यक्ति को तेज गति से सांस आती है तो उस व्यक्ति को तुरंत सतर्क हो जाना चाहिए क्यूंकि अस्थमा रोगी का ये मुख्य लक्षण होता है। इस रोग से पीड़ित लोगों के लिए पौष्टिक खाध पदार्थों का सेवन करना चाहिए एवं सर्दी जुकाम, खांसी जैसे रोगों से शरीर को बचाना चाहिए। कीवी में विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व पाए जाते हैं जो अस्थमा रोग में लाभकारी होते हैं।

 

7. साइटिका रोग में है फायदेमंद

साइटिका एक ऐसा रोग है जो सैक्रोलाइटिस, डिस्कप्रोलेप्स, स्पाइनल इंफेक्शन के कारण होता है। साइटिका आज एक सामान्य रोग बन चुका है जो अधिकतर 35 से 50 वर्ष तक की उम्र के व्यक्तियों में अधिक देखा जाता है। बता दें कि साइटिका एक नस होती है जो कुल्हे से लेकर पैर के पिछले हिस्से तक होती है अतः साइटिका रोग होने पर साइटिका नसों में दर्द होने होने लगता है और यह दर्द कमर से लेकर पैरों की एड़ियों तक होता है। इस पीड़ादायक रोग से राहत पाने के लिए पोटैशियम, विटामिन बी, विटामिन ए, कैल्शियम युक्त फलों का सेवन करना चाहिए। कीवी में यह सभी तत्व पाए जाते है जो मांसपेशियों एवं तंत्रिकाओं को मजबूती प्रदान करते हैं जिसकी वजह से साइटिका रोग में आराम मिलता है।

 

8. कीवी जोड़ों और हड्डियों को बनाता है मजबूत

जोड़ों और हड्डियों के दर्द से से छुटकारा पाने के लिए हड्डियों और जोड़ों का मजबूत होना बेहद जरुरी है। कमजोर जोड़ और हड्डियां मांसपेशियों को तो प्रभावित करते ही हैं साथ ही सम्पूर्ण शरीर को कमजोर भी बना देते हैं। इसलिए हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए शरीर को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम मिलना जरूरी है। कीवी में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो हड्डियों और जोड़ों को मजबूत बनाता है।

 

9. कीवी डेंगू और मलेरिया को रोकने में है फायदेमंद

डेंगू और मलेरिया ऐसे रोग हैं जो किसी भी समय किसी भी उम्र के लोगों को हो सकते हैं लेकिन ज्यादातर यह रोग बारिश के मौसम में होते हैं। डेंगू और मलेरिया दोनों ही रोग मच्छरों के काटने से होते हैं एवं यह दोनों खतरनाक रोग हैं इसलिए समय पर इन रोग की रोकधाम करना आवश्यक है। कीवी में विटामिन सी, पोटैशियम, विटामिन ए, कैल्शियम, एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व पाए जाते हैं जो डेंगू और मलेरिया के कारण कम हुई प्लेटलेट्स को रिकवर करने के साथ डेंगू और मलेरिया को ठीक करने में भी मदद करते हैं।

 

10. कीवी संतुलित हार्मोंस के लिए है उपयोगी

स्वस्थ शरीर के लिए हार्मोन्स का संतुलित रहना बेहद आवश्यक है। मानवीय शरीर में कई तरह के हार्मोंस पाए जाते हैं जो शरीर की कोशिकाओं को सक्रीय बनाते हैं इसलिए हार्मोन्स को रासायनिक दूत कहा जाता है। हार्मोस का बढ़ना और कम होना दोनों ही स्थितियां कई गंभीर रोगों को जन्म देती हैं अतः हार्मोन्स को संतुलित रखना प्रत्येक मनुष्य के लिए बेहद जरुरी होता है। बता दें कि हार्मोन को संतुलित रखने के लिए आप कीवी का इस्तेमाल कर सकते हैं। कीवी में कुछ ऐसे एंजाइम पाए जाते हैं जो हार्मोन्स को सामान्य बनाने में सहायक होते हैं।

 

11. आँखों के लिए लाभकारी है कीवी

स्वस्थ आँखों के माध्यम से ही हम सुन्दर सृष्टि का नजारा देख सकते हैं लेकिन वर्तमान समय में हो रहे बदलाव के कारण आंखे भी कई रोगों से ग्रस्त होने लगी हैं। आज के समय में केवल बुजुर्ग लोगों की ही आँखों की रोशनी कम नहीं हो रही है बल्कि युवा और बच्चों की आँखों की रोशनी भी कम हो रही है। आँखों की रोशनी कम होने का मुख्य कारण पौष्टिक आहार की कमी का होना होता है। यदि आप अन्य कई रोगों से अपनी आँखों को स्वस्थ रखना चाहते है या आँखों की रोशनी बढ़ाना चाहते हैं तो कीवी का उपयोग कर सकते हैं। कीवी में विटामिन ए और विटामिन ई पाया जाता है जो आँखों के लिए बेहद लाभकारी होता है।

 

12. कैंसर रोगियों के लिए फायदेमंद है कीवी

कैंसर का नाम सुनते ही लोगो के मन में भय उत्पन्न हो जाता है यह होना स्वभाविक भी है क्यूंकि कैंसर एक जटिल रोग है जिसके उपचार में लाखों रूपए खर्च हो जाते हैं फिर भी कई बार व्यक्ति ठीक नहीं हो पाता है। दोस्तों कैंसर एक ऐसा रोग है जिसके कई प्रकार होते हैं तथा आप इस बीमारी से तभी बच सकते हैं जब शुरुआत में इसके लक्षणों को पहचान कर तुरंत इसका इलाज करवाएं। कैंसर को इलाज के बिना ठीक तो नहीं किया जा सकता है लेकिन कुछ एंजाइम और विटामिन्स से कैंसर के खतरे से शरीर की सुरक्षा की जा सकती है। कीवी में विटामिन सी और फाइबर पाया जाता है जो शरीर को कोलेन कैंसर, त्वचा कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, स्तन कैंसर से बचाने में मदद करते हैं।

 

13. कीवी पेट के लिए है अमृत

कीवी के इस्तेमाल से आप कई तरह के पेट से सम्बंधित रोगों से निजात पा सकते हैं। पेट में गैस बनाना, पेट फूलना, पेट में सूजन आना एवं पेट दर्द जैसी समस्याएं तो किसी भी समय उत्पन्न हो जाती हैं। बता दें कि जो लोग कीवी का नित्य इस्तेमाल करते हैं उनको ये बीमारियां बहुत ही कम होती हैं। कीवी में फाइबर और मैग्नीशियम पाया जाता है जो पेट से सम्बंधित सभी तरह के विकारों को नष्ट कर देता है। यदि आप भी पेट से सम्बंधित किसी भी तरह के रोग से ग्रस्त हैं तो आप कीवी का उपयोग कर सकते हैं।

 

14. कीवी शिशु के मष्तिष्क विकास के लिए है रामबाण

गर्भवस्था के दौरान यदि गर्भवती महिलायें संतुलित मात्रा में आवश्यक मिनरल्स और विटमिंस का सेवन नहीं करती हैं तो इसका प्रत्यक्ष प्रभाव गर्भ में पल रहे शिशु पर पड़ता है इसलिए डॉक्टर भी गर्भवती महिलाओं को पौष्टिक आहार का सेवन करने की सलाह देते हैं जिससे गर्भवती महिला और शिशु दोनों स्वस्थ रहें। कीवी में आयरन, फोलिक एसिड और कैल्शियम पाया जाता है जो शिशु के मस्तिष्क और मांसपेशियों का विकास करने में फायदेमंद होता है।

 

15. कीवी चर्बी को कम करने में है सहायक

चर्बी और मोटापा दोनों ही इस युग की जटिल समस्यां हैं। आज के समय में तीन में से एक व्यक्ति मोटापा और बड़ी हुई चर्बी की समस्या से पीड़ित है। मोटापा एक ऐसी परेशानी है जो मानसिक और शारीरिक रोगों को जन्म देती है। इसलिए मोटापा को कम करना मोटे लोगों के लिए एक चुनौती बन गया है। मोटापा को कम करने के लिए लोग कई तरह के उपाय करते हैं लेकिन फिर भी मोटापा कम नहीं होता है। यदि आप भी इस समस्या से ग्रस्त हैं तो आप कीवी का उपयोग कर सकते हैं। कीवी में फाइबर और पोटैशियम पाया जाता है जो मोटापा और चर्बी को कम करने में मदद करते हैं। प्रतिदिन व्यायाम के बाद कीवी का सेवन करने से वजन आसानी से कम हो जाता है।

 

16. अच्छी नींद के लिए वरदान है कीवी

स्वस्थ शरीर के लिए बेहतर खान पान के साथ-साथ बेहतर नींद लेना भी आवश्यक है। जिन लोगों को सही तरीके से नींद नहीं आती है वो लोगो शारीरिक व मानसिक तनाव साथ अन्य कई बिमारियों से जल्द ही ग्रस्त हो जाते हैं। यदि आपको सही तरीके से नींद नहीं आती है तो कीवी आपके लिए वरदान है। कीवी में सेरोटोनिन, मैग्नीशियम, पोटैशियम, फाइबर, विटामिन बी और एंटीऑक्सीडेंट जैसे तत्व पाए जाते हैं जो नींद नहीं आने वाले विकारों को नष्ट करके बेहतर नींद लाने में मदद करते हैं।

 

कीवी के अन्य फायदे | Some Other Benefits of Kiwi Fruit in Hindi

kiwi fruit ke fayde

1. कीवी में मैग्नीशियम, फोलिक एसिड और विटामिन सी पाया जाता है जो मुहांसो को दूर करने में फायदेमंद होता है।

2. कीवी के इस्तेमाल से स्कल्प की समस्याएं दूर हो जाती हैं और बाल काले, लम्बे, घने व मजबूत बनते हैं।

3. कीवी में एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं जिसकी वजह से कीवी रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने और शारीरिक कमजोरी को दूर करने में लाभकारी होता है।

4. कीवी में विटामिन ई और विटामिन सी जैसे तत्व पाए जाते हैं जो कोलस्ट्रोल को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

5. कीवी में पाया जाने वाला विटामिन ई चेहरे की त्वचा को ग्लोइंग और मुलायम बनाने में फायदेमंद होता है।

6. कीवी में आयरन पाया जाता है जो एनीमिया के रोगियों के लिए फायदेमंद होता है।

 

कीवी का उपयोग | Uses of Kiwi Fruit in Hindi

kiwi uses in hindi

दोस्तों कीवी का उपयोग आप विभिन्न प्रकार से करके इसके स्वाद और गुणों को और बढ़ा सकते हैं। तो आइये जानते हैं कि कीवी का उपयोग आप किस किस प्रकार से कर सकते हैं।

1. कीवी का जूस बनाकर मॉर्निंग वॉक के बाद इसका उपयोग कर सकते हैं।

2. कीवी की स्लाइस करके उन पर काला नमक छिड़क कर उपयोग किया जा सकता है।

3. कीवी को चुकंदर और अनार के साथ मिलकर एक स्वादिष्ट ड्रिंक तैयार करके उपयोग किया जा सकता है।

4. कीवी की सब्जी बनाकर भी कीवी का उपयोग कर सकते हैं।

5. सुबह नास्ते में फ्रूट सलाद के साथ कीवी का उपयोग कर सकते हैं।

6. कीवी का उपयोग कस्टर्ड में भी किया जा सकता है।

7. टमाटर, पालक के सूप की तरह ही आप कीवी का सूप बनाकर इसका उपयोग कर सकते हैं।

8. चाइनीज डिश के साथ कीवी की चटनी बनाकर कीवी का उपयोग किया जा सकता है।

 

कीवी फल से होने वाले नुकसान | Side Effects of Kiwi Fruit in Hindi

कीवी खाने से अनेक फायदे होते हैं लेकिन यह फल शरीर को केवल फायदा ही नहीं पहुँचता है बल्कि इसका गलत इस्तेमाल करने से यह शरीर को नुकसान भी पंहुचा सकता है। इसलिए अब हम आपको बताने वाले हैं कीवी से होने वाले शारीरिक नुकसानों के बारे में जिनको जानने के बाद आप कीवी का इस्तेमाल सही तरीके से कर सकेगें।

1. कीवी में फाइबर अधिक मात्रा में पाया जाता है इसलिए कीवी का सेवन अधिक मात्रा में करने से आपको दस्त लग सकते हैं।

2. कीवी में खून को पतला करने के तत्व पाए जाते हैं अतः कीवी का सेवन असंतुलित मात्रा में करने से शरीर में रक्त का बहाव तेज गति से होने लगता है।

3. कीवी के इस्तेमाल से कुछ लोगों को एलर्जी की समस्या हो सकती है।

4. गर्भवती महिलाओं को कीवी का उपयोग कम मात्रा में ही करना चाहिए क्योंकि इसके अधिक सेवन से महिलाओं को उल्टी और अपचय की शिकायत हो सकती है।

5. जिन लोगों को किसी तरह की चोट लगी हो उन लोगों को कीवी का उपयोग नहीं करना चाहिए।

 

तो दोस्तों ये थी कीवी फल (kiwi fruit in hindi) से जुड़ी कुछ जानकारी। हम आशा करते हैं की आप कीवी के समस्त फायदे और नुकसानों से परिचित हो गए होंगे। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।
हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here