Bewafa Ki Shayari


 

best bewafa shayari

बेवफा शायरी – खुद को बेवफा कहलाउंगी  

हर इल्जाम सहा है प्यार में
आज ये जिल्लत भी उठाउंगी
तेरी खुशी के लिए मेरी जान
मैं खुद को बेवफा कहलाउंगी…

Bewafa Shayari – Khud ko bewafa kehlaungi  

Har iljaam saha hai pyaar me
Aaj ye jillat bhi uthaungi
Teri khushi ke liye meri jaan
Me khud ko bewafa kehlaungi…

 


 

शायरी – ना दो दुहाई वफा की  

ढक दो कफन से चेहरा मेरा
हटा कर कफन मेरे चेहरे को शर्मसार ना करो
अब ना दो दुहाई अपनी वफा की
नाम लेकर वफा का उसे दागदार ना करो…

Shayari – Naa do duhai wafa ki  

Dhak do kafan se chehra mera
Hata kar kafan mere chehre ko sharmsaar naa karo
Ab naa do duhai apni wafa ki
Naam lekar wafa ka use daagdaar naa karo…

 


 

शायरी – तेरी बेवफाई आज  

खुशी मुबारक हो मेहबूबा तुम्हें
उदासी आज मेरी पहचान बन गई
तेरी बेवफाई ओ हसीना आज
तेरे आशिक़ की पहचान बन गई…

Shayari – Teri bewafai aaj  

Khushi mubarak ho mehbooba tumhe
Udaasi aaj meri pehchaan ban gayi
Teri bewafai oh haseena aaj
Tere aashiq ki pehchaan ban gayi…

 


 

शायरी – कैसे ना करे यकीन बेवफाई का  

कैसे ना करे यकीन तेरी बेवफाई का
जब तेरे दर पे सारा बाजार लगता है
बदनाम होती है मेरे प्यार की वफा
जब सरे बाजार तेरे प्यार का व्यापार होता है…

Shayari – Kaise naa kare yakeen bewafai ka  

Kaise naa kare yakeen teri bewafai ka
Jab tere dar pe saara bajaar lagta hai
Badnaam hoti hai mere pyaar ki wafa
Jab sare bajaar tere pyaar ka vyapar hota hai…

 


 

बेवफा शायरी – बेवफा को भी वफा सीखा दूँगी  

हर मर्ज का इलाज है मेरे पास
तेरे दिल पे मैं मलहम लगा दूँगी
तू भूल चुका है चलन वफ़ा का
मैं बेवफा को भी वफा सीखा दूँगी…

Bewafa Shayari – Bewafa ko bhi wafa sikha dungi  

Har marj ka ilaaj hai mere paas
Tere dil pe me malham laga dungi
Tu bhool chuka hai chalan wafa ka
Me bewafa ko bhi wafa sikha dungi…

 


 

शायरी – पहले की बेवफाई मुझसे  

बिना चिराग के रौशनी नहीं होती
तुम जालाना चाहती हो शमां महफिल में
पहले की तुमने बेवफाई मुझसे
अब रुस्वा करना चाहती हो महफिल में…

Shayari – Pehle ki bewafai mujhse  

Bina chirag ke roshni nahi hoti
Tum jalaana chahti ho shaman mehfil me
Pehle ki tumne bewafai mujhse
Ab ruswa karna chahti ho mehfil me…

 


 

शायरी – आज बेवफा कहलाई जाती हूँ  

एक छोटी सी खता के बदले में
आज बेवफा कहलाई जाती हूँ
दुआ करती हूँ तेरी खुशी की
आज खुद की नजरों में गिर जाती हूँ…

Shayari – Aaj bewafa kehlai jaati hoon  

Ek choti si khata ke badle me
Aaj bewafa kehlai jaati hoon
Dua karti hu teri khushi ki
Aaj khud ki najre me gir jati hoon…

 


 

शायरी – दुनिया कहती है मुझे बेवफा  

ना थी कोई आस ना थी कोई उम्मीद
एक रोज आएगा आपका भी पैगाम ऐ वफा
आपका मिला पैगाम सर आँखों पे
मगर दुनिया कहती है मुझे सनम बेवफा…

Shayari – Duniya kehti hai mujhe bewafa  

Na thi koi aas na thi koi ummeed
Ek roj aayega aapka bhi paigam ae wafa
Aapka mila paigam sar aankho pe
Magar duniya kehti hai mujhe sanam bewafa…

 


 

शायरी – बेवफाई के लिए मजबूर हो गए  

तेरी निगाहों से जब हम दूर हो गए
बेवफाई करने के लिए मजबूर हो गए
एक तू ना भुला पाई मेरी मोहब्बत
हम अपनी नजर से गिरने के लिए मजबूर हो गए…

Shayari – Bewafai ke liye majboor ho gaye  

Teri nigaho se jab hum door ho gaye
Bewafai karne ke liye majboor ho gaye
Ek tu na bhula pai meri mohabbat
Hum apni najar se girne ke liye majboor ho gaye…

 


 

शायरी – वो तो बस बेवफा है  

समझा था जिसे हमने हमसफर
उसने दी बस प्यार में दगा है
फितरत है शायद ये उसकी
वो तो बस एक बेवफा है…

Shayari – Wo to bas bewafa hai  

Samjha tha jise humne humsafar
Usne di bas pyar me daga hai
Fitrat hai shayad ye uski
Wo to bas ek bewafa hai …

 


Best Bewafa Shayari


 

new bewafa shayari

बेवफा शायरी – वो बेवफा से ही दिल लगाएगा  

जिसे रास नहीं आती वफा
वो तो बेवफा से ही दिल लगाएगा
जिसकी आदत है बस मयकशी
वो तो हर शाम पी कर लड़खड़ाएगा…

Bewafa Shayari – Wo bewafa se hi dil lagayega  

Jise raas nahi aati wafa
Wo to bewafa se hi dil lagayega
Jiski aadat hai bas maykashi
Wo to har shaam pi kar ladkhadayega…

 


 

शायरी – तुम होंगे भले ही बेवफा  

दूर रह कर भी तुम मेरे करीब रहते हो
मुझे दिल से भुलाने की कोशिश ना करो
तुम होंगे सनम भले ही बेवफा
मगर मेरी बफा को आजमाने की कोशिश ना करो…

Shayari – Tum honge bhale hi bewafa  

Door rah kar bhi tum mere kareeb rehti ho
Mujhe dil se bhulne ki koshish na karo
Tum honge sanam bhale hi bewafa
Magar meri wafa ko aajmaane ki koshish na karo…

 


 

शायरी – मुझे बेवफा की तलाश है  

बफा की किसे जरुरत है
मुझे बेवफा की तलाश है
तू भी प्यासा है मोहब्बत का
मुझे भी तेरी चाहत की प्यास है…

Shayari – Mujhe bewafa ki talaash hai  

Bafa ki kise jarurat hai
Mujhe bewafa ki talaash hai
Tu bhi pyasa hai mohabbat ka
Mujhe bhi teri chahat ki pyas hai…

 


 

शायरी – बेवफा मेरे साथ अच्छा बफा निभाया  

रोती है आज मुझपर मेरी बदनसीबी
बेवफा तूने मेरे साथ अच्छा बफा निभाया
जिसको मैंने समझा था अपना
वो भी मुझसे निकला पराया…

Shayari – Bewafa mere sath accha wafa nibhaya  

Roti hai aaj mujhpar meri badnaseebi
Bewafa toone mere sath accha wafa nibhaya
Jisko maine samjha tha apna
Wo bhi mujhse nikla paraya…

 


 

बेवफा शायरी – हद होती है बेवफाई की  

हद होती है सनम बेवफाई की
तूने हर सितम की इन्तेहाँ तोड़ दी
कब तक सहते हम जालिम तेरे दर्द
परेशान हो कर हमने दुनिया छोड़ दी…

Bewafa Shayari – Had hoti hai bewafai ki  

Had hoti hai sanam bewafai ki
Tu ne har sitam ki intehaan tod di
Kab tak sehte hum jaalim tere dard
Pareshaan ho kar humne duniya chod di…

 


 

शायरी – जिसकी नजर हो बेवफा  

जिसकी नजर हो बेवफा सनम
उसके दिल में मोहब्बत नहीं होती
जिसमें गैरत ही ना हो सनम
उसे किसी की चाहत नहीं होती…

Shayari – Jiski najar ho bewafa  

Jiski najar ho bewafa sanam
Uske dil me mohabbat nahi hoti
Jisme gairat hi na ho sanam
Use kisi ki chahat nahi hoti…

 


 

शायरी – मजबूरियों में बेवफाई देखने वाले  

मेरे होंठों पे फूलों की खुशी तो तुमने देखी होगी
मगर दिल में जो बसे हैं वो वीराने नहीं देखे
मेरी मजबूरियों में बेवफाई देखने वाले
छलकती इन आँखों से तूने आंसू नहीं देखे…

Shayari – Majbooriyon me bewafai dekhne wale  

Mere hothon pe fulon ki khushi to tumne dekhi hogi
Magar dil me jo base hain wo veerane nahi dekhe
Meri majbooriyon me bewafai dekhne wale
Chalakti in aankho se toone aansu nahi dekhe…

 


 

शायरी – मुझे ही बेवफा बताया जाता है  

वफा करने के बाद भी
मुझे ही बेवफा बताया जाता है
लेकर नाम वफा का
फिर सूली पे लटकाया जाता है…

Shayari – Mujhe hi bewafa bataya jaata hai  

Wafa karne ke baad bhi
Mujhe hi bewafa bataya jaata hai
Lekar naam wafa ka
Fir sooli pe latkaya jaata hai…

 


 

शायरी – तुम समझते हो मुझे बेवफा  

थी मजबूर साथ निभा ना पाई मैं
इसलिए माफ़ी मांगने आई हूँ
तुम समझते हो सनम मुझे बेवफा
वास्तविक हकीकत बताने आई हूँ…

Shayari – Tum samajhte ho mujhe bewafa  

Thi majboor sath nibha na pai me
Isliye maafi maangne aai hu
Tum samajhte ho sanam mujhe bewafa
Vastavik hakikat batane aai hu…

 


 

बेवफा शायरी – कहती थी दुनिया हमको बेवफा  

जाम पीकर भी ना खोते थे होश कभी
आज बिन पिए भी हम लड़खड़ाने लगे हैं
पहले कहती थी ये दुनिया हमको बेवफा
आज वो भी इल्जाम बेवफाई का लगाने लगे हैं…

Bewafa Shayari – Kehti thi duniya humko bewafa  

Jaam peekar bhi naa khote the hosh kabhi
Aaj bin piye bhi hum ladkhadane lage hain
Pehle kehti thi ye duniya humko bewafa
Aaj wo bhi iljaam bewafai ka lagaane lage hain…

 


 

तो दोस्तों आपको ये शायरियाँ कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट (Bewafa Shayari) को शेयर करें और ऐसे ही शायरियाँ पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।
हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here