black pepper in hindi

About Black Pepper in Hindi: खाने में मसालों के बिना हम सभी की रसोई अधूरी ही रहती है इसलिए भारतीय घरों में गर्म मसाले आसनी से मिल जाते हैं। हालाँकि सम्पूर्ण गर्म मसाले शायद ही किसी की रसोई में मिले लेकिन लौंग, इलायची, सौंठ, पीपल, काली मिर्च आदि यह कुछ प्रचलित मसाले है जो हर कोई रखता ही है। इन सभी में से आज हम विशेषतः आप से काली मिर्च (Black Pepper) के विषय में बाते करने वाले हैं।

भारत के ज्यादातर घरों में काली लीर्च का इस्तेमाल भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है। इसके अतिरिक्त काली मिर्च क्या काम आ सकती है यह अधिकतर लोगों ने नहीं सोचा होगा। तो आज हम आपको इस लेख में kali mirch के कुछ ऐसे स्वस्थ्य लाभ बताएँगे जिन्हे उपयोग कर आप कई समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। अगर आप काली मिर्च के विषय में जानने को उत्सुक हैं तो आइए आज आपको इससे जुड़ी रोचक जानकारी हम बताते हैं।

 

Page Contents

क्या होती है काली मिर्च | What is Black Pepper in Hindi

काली मिर्च एक प्रकार का जायकेदार मसाला है जो कई मामलों में आरोग्यकर भी साबित होता है। आपको बता दें कि काली मिर्च का पौधा पाइपरेसी कुल से संबंधित पौधा होता है जिसका वैज्ञानिक नाम Piper nigrum है। इस मसाले का रंग काला होता है इसलिए इसको काली मिर्च के नाम से जाना जाता है।

काली मिर्च के आकर की बात करें तो आकार में यह गोल और छोटी होती है लेकिन इसका स्वाद बेहद तीखा होता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि kali mirch की तासीर गर्म होती है लेकिन काली मिर्च की तासीर के विषय में अभी कई शोधकर्ताओं के मत भिन्न-भिन्न हैं।

 

काली मिर्च में मौजूद पौष्टिक तत्व | Nutrients of Black Pepper in Hindi

प्रचीन काल से लेकर अभी तक काली मिर्च का उपयोग आयुर्वेद में दिव्य ओषधि के रूप में किया जाता रहा है क्योंकि काली मिर्च में कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, सोडियम, कॉपर, प्रोटीन, थायमिन, विटामिन-बी6, विटामिन ए, विटामिन के सहित एंटी-फ्लैटुलेंस, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं जो सेहत को तंदरुस्त रखने में कारगार होते हैं।

 

काली मिर्च के विभिन्न नाम | Some Other Names of Kali Mirch

दोस्तों भारत में जैसे इंसान के दो या दो से अधिक नाम होते हैं, मतलब कि घर में लाग और बहार अलग वैसे ही खाद्य साम्रगी के भी अलग अलग नाम होते हैं। यही वजह है कि काली मिर्च को भी भिन्न भिन्न प्रांतों में भाषाई आधार पर अलग अलग नामों से पहचाना जाता है। इसलिए अब हम आपको काली मिर्च के विभिन्न नामों की जानकारी देने वाले हैं।

काली मिर्च का हिंदी में नाम – गोल मरिच

काली मिर्च का अंग्रेजी में नाम – ब्लैक पेपर

काली मिर्च का संस्कृत में नाम – कृष्ण, वेल्लज

काली मिर्च का तेलगु में नाम – मरिचमु

काली मिर्च का तमिल में नाम – मोलह शेव्वियम्

काली मिर्च का गुजराती में नाम – मरितीखा

काली मिर्च का मराठी में नाम – काली मिरीं

काली मिर्च का मलयालम में नाम – लह

पंजाबी में काली मिर्च का नाम – काली मिर्च

 

काली मिर्च के फायदे | Benefits of Black Pepper in Hindi

kali mirch benefits

काली मिर्च दिखने में भले ही छोटी है लेकिन फायदे इसके बड़े बड़े हैं। यदि आप अभी तक काली मिर्च के स्वास्थवर्धक लाभ से अनजान हैं तो अब हम आपको इसके फायदे गिनाने वाले हैं ये फायदे यकीनन आपको निरोगी रखने में मददगार साबित होंगे। तो देर किस बात की चलिए देखते हैं काली मिर्च के हेल्थ बेनिफिट्स।

 

1. बंद आवाज खोलने में असरदार है काली मिर्च

कई बार मौसम परिवर्तन, खट्टे खाद पदार्थों का अधिक सेवन करने से, अधिक बोलने से लोगों की आवाज बंद हो जाती है। बंद आवाज को खोलने के लिए वैसे तो ज्यादातर घरेलु नुस्खों का ही प्रयोग किया जाता है। लेकिन यदि आप बंद आवाज को जल्द से जल्द खोलना चाहते हैं तो आप काली मिर्च का इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसके लिए आप काली मिर्च का उपयोग मुलेठी के साथ कर सकते हैं। दो या तीन काली मिर्च व एक टुकड़ा मुलेठी को मुंह में डालकर दिन में दो से तीन बार चूसने से बंद आवाज खुल जाती है। इसके आलावा आप काली मिर्च का उपयोग इसे पानी में उबालकर गुनगुना होने के पश्चात् गरारे करने के लिए भी कर सकते हैं।

 

2. सर्दी जुकाम का करती है अंत

सर्दियों के मौसम में आमतौर पर हम सभी को सर्दी जुकाम की समस्या से जूझना पड़ता हैं। कई लोग ऐसे भी होते हैं जिनको सर्दी जुकाम कई महीनों तक बना रहता है अतः तमाम कोशिशों के बाद भी वह इस समस्या का समाधान करने में असमर्थ रहते हैं। आपको बता दें कि काली मिर्च एक ऐसी दिव्य ओषधि है जिसका उपयोग करके आप सर्दी जुकाम का अंत कर सकते हैं।

यदि आप सर्दी जुकाम से निजात पाना चाहते हैं तो काली मिर्च का उपयोग तुलसी, मरुआ का काढ़ा बनाकर कर सकते हैं। इसके अलावा सर्दी जुकाम की वजह से कई लोगों की नाक बंद हो जाती है। यदि आपको भी यह समस्या उत्पन्न होती है तो आप काली मिर्च का उपयोग भाप लेने के लिए भी कर सकते हैं।

 

3. सिरदर्द को ठीक करने में काली मिर्च है उपयोगी

सिरदर्द एक आम रोग है जो कि किसी भी कारणवश व्यक्ति को अपना शिकार बना सकता है। आमतौर पर सिरदर्द की परेशानी से छुटकारा पाने के लिए पेनकिलर का इस्तेमाल किया जाता है जिनसे केवल कुछ समय के लिए ही निजात मिलती है। ध्यान रखें कई बार दर्द निवारक दवाइयों का अधिक सेवन करने से किडनी से सम्बंधित अनेक प्रकार के रोग उत्पन्न होने की सम्भवना बढ़ जाती है।

यदि आप सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए दर्द निवारक दवाइयों का सेवन नहीं करना चाहते हैं तो ऐसे में आप काली मिर्च का उपयोग कर सकते हैं। आपको बता दें कि काली मिर्च का धुआँ लेने से या काली मिर्च का पाउडर सूंघने से काफी हद तक सिरदर्द में आराम मिलता है।

 

4. माइग्रेन दर्द में राहत पहुँचाती है काली मिर्च

माइग्रेन सिरदर्द का ही एक प्रकार होता है जो बेहद ही पीड़ादायक होता है। माइग्रेन को अधकपारी के नाम से भी जाना जाता है आपको बता दें कि यह रोग मस्तिष्क में तंत्रिका तंत्र के विकार के कारण उत्पन्न होता है। माइग्रेन सिर के आधे हिस्से में तो कभी कभी सिर के सम्पूर्ण भाग में होता है। हालाँकि दर्द आता जाता रहता है लेकिन कई लोगों का दर्द कई माह तक नहीं जाता है।

यदि आप भी माइग्रेन की परेशानी से जूझ रहे हैं तो ऐसे में आप काली मिर्च का प्रयोग कर सकते हैं। बता दें कि गाय के घी में एक चुटकी काली मिर्च पाउडर मिलाकर नाक में डालने पर माइग्रेन दर्द में राहत मिलती है।

 

5. पेट के विकारों को काली मिर्च करती है दूर

पेट शरीर का एक अहम भाग होता है जिसके अस्वस्थ होने से अनेक प्रकार के रोगों का शिकार शरीर बन जाता है। आपको बता दें कि पेट ख़राब होने की वजह से गैस, अपच, भूख में कमी या भूख में अधिकता, पेट में कीड़े होना, पेट दर्द, पेट का फूलना आदि समस्याओं की चपेट में शरीर आ जाता है।

यदि आप पेट को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो आपके लिए काली मिर्च एक बेहतरीन विकल्प साबित हो सकती है। हालाँकि पेट के विकार विभिन्न प्रकार के होते हैं इसलिए काली मिर्च का उपयोग अलग अलग तरह से किया जाता है। काली मिर्च का पानी सुबह शाम सेवन करने से गैस, अपच, भूख की कम या अधिक लगने जैसी समस्याओं को नियंत्रित किया जा सकता है।

 

6. कमजोरी दूर करने में काली मिर्च है गुणकारी

कमजोरी एक आम समस्याओं में से एक है। इस समस्या की वजह से आलस्य, निद्रा, शरीर का सुस्त होने जैसी परेशानियां शरीर को अपना शिकार बना लेती हैं इसलिए शारीरिक कमजोरी का उपचार सही समय पर करना उचित माना जाता है।

अधिकतर लोग विचार करते हैं की शारीरिक कमजोरी को कैसे दूर किया जा सकता है। यदि आप भी यही विचार कर रहे हैं तो आप काली मिर्च का इस्तेमाल कर सकते हैं। काली मिर्च, छुहारे को गाय के दूध में उबालकर सेवन करने से शारीरिक कमजोरी से आप छुटकारा पा सकते हैं।

 

7. भूख को बढ़ती है काली मिर्च

दोस्तों शरीर को सही अनुपात में भोजन की आवश्यकता होती है। लेकिन आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में कई लोग या तो ठीक से भोजन नहीं कर पते हैं या फिर लोगों को भूख नहीं लगती है जिसकी वजह से शरीर को भोजन नहीं मिल पाता है।

आपको बता दें कि भूख नहीं लगने की समस्या शरीर के लिए बेहद घातक साबित हो सकती है इसलिए इसका समाधान सही समय पर करना जरुरी है। यदि आप भी भूख लगने के समस्या से पीड़ित है तो इस परेशानी से छुटकारा पाने के लिए आप काली मिर्च का उपयोग कर सकते हैं।

 

8. मुहासों को कम करने में काली मिर्च है फायदेमंद

त्वचा पर मुहांसे होना एक जटिल रोग है जो सम्पूर्ण चेहरे की त्वचा की खूबसूरती कम कर देता है। मुहासों से छुटकारा पाने के लिए आमतौर पर हम सभी फेश वॉश, क्रीम, दवाइयों का इस्तेमाल करते हैं जो कि त्वचा को बेहद संवेदनशील बना देते हैं।

चेहरे कि त्वचा पर मुहासे होने के कई कारण होते हैं जिसमें से त्वचा पर बैक्टीरिया इंफेक्शन भी एक कारण होता है। आपको बता दें कि काली मिर्च में एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो बैक्टीरिया इंफेक्शन को नियंत्रित करके मुहासों को कम करने में फायदेमंद होते हैं।

 

काली मिर्च के अन्य लाभ | Kali Mirch Ke Fayde

kali mirch ke fayde

1. काली मिर्च गले का दर्द कम करने में फायदेमंद होती है। काली मिर्च के गरारे करने से गले का दर्द कम हो जाता है।

2. काली मिर्च में एंटीकैंसर गुण पाए जाते हैं जो कई प्रकार के कैंसर को नियंत्रित करने में फायदेमंद होते हैं।

3. मोटापा कम करने में काली मिर्च का उपयोग असरकारक होता है।

4. काली मिर्च में एंटी डिप्रेशन गुण पाए जाते हैं जो डिप्रेशन को दूर करने में प्रभावी होते हैं।

5. काली मिर्च में वात को कम करने वाले तत्व पाए जाते हैं जो गठिया रोगी के लिए फ़ायदेमदं होते हैं। अतः गठिया रोग से पीड़ित रोगियों के लिए काली मिर्च का उपयोग लाभदायक होता है।

 

काली मिर्च का उपयोग | Uses of Black Pepper in Hindi

black pepper uses in hindi

दोस्तों काली मिर्च एक लाजवाब मसाला है जिसका उपयोग आप कई प्रकार से कर सकते हैं। आइए अब हम आपको काली मिर्च के विभिन्न उपयोग बताते हैं जो यकीनन आपको पसंद आएंगे।

1. काली मिर्च का उपयोग आप छाछ में मिलाकर सकते हैं।

2. गुड़ की चाशनी में काली मिर्च का इस्तेमाल किया जा सकता है।

3. चाय के लिए काली मिर्च अक्सर इस्तेमाल की जाती है।

4. काढ़े बनाने के लिए ज्यादातर काल मिर्च का उपयोग किया जाता है।

5. शहद में मिलाकर आप काली मिर्च का उपयोग कर सकते हैं।

6. जूस में मिलाकर काली मिर्च का इस्तेमाल किया जा सकता है।

7. टमाटर आदि सूप में डालकर आप काली मिर्च का उपयोग कर सकते हैं।

8. सलाद में मिलाकर काली मिर्च का इस्तमाल किया जा सकता है।

9. कैरी के पना में काली मिर्च डालना सभी को पसंद होता है।

10. फ़ास्ट फ़ूड में तो काली मिर्च का उपयोग ज़ायका बढ़ाने के लिए किया जाता है ।

11. काजू, किशमिश में डालकर आप काली मिर्च का उपयोग कर सकते हैं।

12. आमतौर पर आप रोजना सब्जी बनाने में काली मिर्च का इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

काली मिर्च से होने वाले नुकसान | Side Effects of Black Pepper in Hindi

काली मिर्च शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बेहद फायदेमंद है। लेकिन यदि काली मिर्च का उपयोग गलत तरीके से किया जाता है तो यह शरीर को अस्वस्थ बना सकती है। इसलिए अब हम आपको काली मिर्च से होने वाले नुकसानों से अवगत कराने वाले हैं जिनको जानने के पश्चात आप काली मिर्च का उपयोग सही तरीके से करके इसके नुकसानों से शरीर का बचाव कर सकते हैं।

1. काली मिर्च का उपयोग अधिक करने से एसिडिटी की परेशानी हो सकती है।

2. काली मिर्च का ज्यादा सेवन करने से जलन की समस्या देखी जा सकती है।

3. काली मिर्च का गलत इस्तेमाल करने से सूजन व लालिमा आ सकती है।

4. अल्सर से पीड़ित लोगों के लिए काली मिर्च का सेवन करना नुकसानदायक साबित हो सकता है इसलिए अल्सर रोगियों को चिकित्सक का परामर्श लेकर ही सेवन करना चाहिए।

 

तो दोस्तों ये थी काली मिर्च (black pepper in hindi) से जुड़ी कुछ जानकारी। हम आशा करते हैं की आप काली मिर्च के फायदे और नुकसान समझ गए होंगे। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें और ऐसी ही जानकारी पढ़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।

हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here