paneer ke phool

About Paneer Ke Phool: कई फूल ऐसे होते हैं जो न सिर्फ प्रकर्ति को सुन्दर व आकर्षित बनाते हैं बल्कि सेहत और त्वचा के लिए लाभकारी भी होते हैं। यूँ तो आप भी किसी न किसी फूल के गुणों से परिचित अवश्य होंगे एवं फूलों के औषधीय फायदों का लाभ भी उठाया होगा। लेकिन दोस्तों आज हम एक ऐसे फूल की बात करने जा रहे हैं जिसका नाम आपने शायद ही कभी सुना हो।

आप सोच रहे होंगे कि आखिर इस फूल का नाम क्या है? तो दोस्तों बता दें कि इस लाभकारी फूल को Paneer Ke Phool के नाम से जानते हैं। यह एक ऐसा प्रभावकारी फूल है जिसका उपयोग सदियों से आयुर्वेद की दवाइयों में किया जाता रहा है। दुर्भाग्यवश पनीर फूल अन्य फूलों की तरह प्रचलित नहीं है इसलिए अधिकतर लोग इसके विषय में नहीं जानते हैं व इसके स्वास्थवर्धक फायदों का लाभ नहीं उठा पाते हैं। इसी लिए आज न सिर्फ हम आपको पनीर के फूल से अवगत कराएंगे बल्कि इससे होने वाले स्वास्थ्यवर्धक फायदे भी आपसे साझा करेंगे।

 

पनीर के फूल क्या हैं | What is Paneer Ke Phool

पनीर फूल जंगली असगंध होता है जिसका सबंध सोलानसेआए (Solanaceae) परिवार से होता है। आपको बता दें कि पनीर फूल की उत्पत्ति भारत में ही हुई थी इसलिए पनीर के फूल को इंडियन रेनेट (indian rennet) के नाम से भी जाना जाता है। हालाँकि कई स्थानों पर पनीर के फूल को पनीर डोडा (paneer doda) के नाम से भी जानते हैं।

पनीर के फूल का पौधा झाड़ीदार होता है जिसमें छोटे-छोटे महुआ के फूल जैसे फूल लगे होते हैं हालाँकि पनीर के फूलों और महुआ के फूलों के आकार में थोड़ा अंतर होता है। पनीर के फूल के ऊपर एक पतली परत चढ़ी होती है जिसका रंग हरा होता है। पकने के बाद यह रंग भूरा या सफ़ेद होता हो जाता है जबकि अंदर से पनीर के फूल का रंग हल्का पीला और मेहरून होता है।

यदि पनीर के फूल के स्वाद की बात की जाए तो इसका स्वाद कभी मीठा और कभी कड़वा होता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पनीर के फूल एक व्यापरिक फूल के तौर भी जाना जाता है जिसका उत्पादन भारत के अतरिक्त पकिस्तान व अफगानिस्‍तान में भी किया जाता है।

 

पनीर के फूल कहाँ मिलते हैं | Where did Paneer Ke Phool Found

panner ke phool tree

पनीर फूल के विषय में तमाम जानकारी प्राप्त करने के पश्चात आप यदि यह सोच रहे हैं कि पनीर के फूल को किसी भी जंगल या गार्डन से आसानी से प्राप्त किया जा सकता है तो आप गलत हैं। दरअसल पनीर के फूल किसी भी जंगल या गार्डन में आसानी से नहीं मिलते हैं। इसकी उपज बहुत ही कम जगह देखने को मिलती है।

यदि आप आसानी से पनीर के फूल को प्राप्त करना चाहते हैं तो आप इसे सरलतापूर्वक पंसारी या आयुर्वेदिक दवाखानों के आलावा ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं।

 

पनीर के फूल के फायदे | Benefits of Paneer Ke Phool

paneer doda

छोटा सा दिखने वाला पनीर फूल कई प्रकार के बड़े-बड़े रोगों को काबू में करने की क्षमता रखता है। जी हाँ दोस्तों Paneer Ke Phool में अनेक प्रकार के लाभप्रद गुण पाए जाते हैं जो सेहत को स्वस्थ बनाने में मददगार होते हैं। इसलिए अब हम आपको बताने वाले हैं कि आप पनीर के फूलों का इस्तेमाल करके शरीर का किस प्रकार के रोगों से बचाव कर सकते हैं।

 

1. सर्दी जुकाम को ठीक करने में होता है फायदेमंद

सर्दी जुकाम एक सामान्य रोग है जिसको आसनी से ठीक किया जा सकता है। लेकिन कई बार सर्दी जुकाम का सही समय पर उपचार नहीं करने की वजह से यह बिगड़ जाता है एवं परिणाम स्वरुप अनेक प्रकार का इलाज कराने के बाद भी कई माह तक ठीक नहीं होता है।

कई माह तक सर्दी जुकाम रहने की वजह से रोगी शारीरक व मानसिक रोगों का शिकार बन सकता है। इसलिए आपको बता दें कि इस प्रकार के सर्दी जुकाम में पनीर के फूल को रामबाण औषधि माना जाता है। अतः यदि आपको अधिक समय से सर्दी जुकाम है तो आप पनीर के फूल का इस्तेमाल काढ़े के रूप में कर सकते हैं।

 

2. मुहासों को पनीर के फूल से करें ठीक

वर्तमान समय में युवाओं के चेहरे की त्वचा पर आसानी से मुँहासे देखे जा सकते हैं। हालाँकि मुँहासे होने के कई कारण होते हैं लेकिन सही समय पर मुहासों का उपचार नहीं करने से यह सम्पूर्ण चेहरे की सुंदरता पर ग्रहण लगा देते हैं। इसलिए कई लोग ऐसे भी होते हैं जो मुहासों का उपचार समय पर करवाते है लेकिन फिर भी मुँहासे चेहरे की त्वचा का पीछा नहीं छोड़ते।

आपको बता दें कि मुहासों की समस्या से निजात पाने के लिए आप पनीर के फूलों का उपयोग कर सकते हैं। मुहासों को ठीक करने के लिए आप पनीर फूलों के अतरिक्त पनीर के फूलों के पानी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

 

3. त्वचा को टाइट बनाने में करे मदद

कई लोगों की त्वचा समय से पहले ही ढीली हो जाती है जिसकी वजह से लोग समय से पहले बूढ़े नजर आने लगते हैं। त्वचा में कसावट लाने के लिए अधिकतर लोग कई प्रकार के उपाय करते हैं जैसे कि कई प्रकार के टोनर का इस्तेमाल करते हैं या फिर फेस मास्क आदि का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन तमाम उपायों को करने के बाद भी त्वचा में कसावट नहीं आती।

इसलिए आपको बता दें कि प्राकृतिक तरीके से यदि आप त्वचा को टाइट बनाना चाहते हैं तो आप पनीर के फूलों का उपयोग कर सकते हैं। हालाँकि पनीर के फूल त्वचा को टाइट करने में समय जरूर लेते हैं लेकिन त्वचा को टाइट करने के आलावा त्वचा पर मौजूद झुर्रियों व झाइयों को ठीक करने में भी फायदेमंद होते हैं।

 

4. पनीर के फूल मोटापा कम करने में हैं असरदार

दोस्तों मोटापा से पीड़ित लोगों के लिए पनीर के फूल किसी चमत्कारी जड़ी बूटी से कम नहीं हैं। चूँकि हम सभी जानते हैं की मोटापा वर्तमान समय की गंभीर समस्याओं में से एक है जिसका समाधान केवल अपनी दैनिक दिनचर्या में परिवर्तन करने के साथ ही उचित प्रकार का खाना पान करके ही किया जा सकता है। अब कई लोग मोटापा को नियंत्रित करने के लिए व्यायम व योग तो करते हैं परन्तु सही प्रकार के खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करते, जिसकी वजह से मोटापा कम नहीं होता है।

यदि आप मोटापा की परेशानी से जूझ रहे हैं तो इसको कम करने के लिए आप पनीर के फूल का इस्तेमाल कर सकते हैं क्योंकि पनीर के फूल में कुछ ऐसे औषधीय गुण पाए जाते हैं जो मोटापा को कम करने में सहायक होते हैं।

 

5. अनिद्रा की परेशानी को पनीर के फूल से करें खत्म

आज के समय में अनिद्रा की समस्या तेजी से बढ़ रही है। इस रोग का मुख्य कारण मानसिक व शारीरिक अशांति को माना जाता है हालाँकि अनिद्रा के कई कारण हो सकते हैं जैसे की तनाव, चिंता आदि। अब यदि अनिद्रा की समस्या को नजरअंदाज किया जाता है तो यह कई प्रकार के मानसिक रोगों को उत्पन्न कर सकता है।

कई लोगों को अनिद्रा की शिकायत कुछ हफ्तों या कुछ दिनों तक ही रहती है जबकि कई लोगों को अनिद्रा की शिकायत कई माह तक रह सकती है। यदि आप इस समस्या से पीड़ित हैं और इससे छुटकारा पाना चाहते हैं तो आप पनीर के फूल का उपयोग कर सकते हैं क्योंकि पनीर के फूल अनिद्रा की समस्या से छुटकारा दिलाने में फायदेमंद होते हैं।

 

6. पनीर के फूल से करें मधुमेह का इलाज

मधुमेह को स्वास्थ का शत्रु कहा जाता है क्योंकि यह एक ऐसा रोग है जो शरीर का जीवनपर्यन्त पीछा नहीं छोड़ता है। मधुमेह रोगियों की संख्या में दिन-व-दिन बढ़ोतरी होती जा रही है। इसलिए मधुमेह रोग से बचने के लिए इस रोग की जटिलताओं को ध्यान में रखते हुए इससे बचाव एवं उपचार पर विशेष ध्यान देना चाहिए। याद रखें मधुमेह रोग स्वयं तो गंभीर होता है साथ ही कई प्रकार के गंभीर रोगों को पैदा करने वाला भी होता है। दरअसल मधुमेह रोग किडनी और ह्रदय को भी प्रभवित करता है जिसकी वजह से कई प्रकार की शारीरिक समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं।

बता दें मधुमेह को नियंत्रित करने वाली अनेक प्रकार की परम्परागत जड़ी बूटियां का उपयोग आयुर्वेद में दवाइयों के रूप में किया जाता है। अतः मधुमेह को नियंत्रित करने वाली रामबाण जड़ी बूटियों में पनीर के फूल का नाम भी शुमार है। यदि आप मधुमेह को नियंत्रित करना चाहते हैं तो आपके लिए पनीर के फूल एक दिव्य औषधी है। दरअसल paneer Ke phool में इंसुलिन को संतुलित रखने के आलावा शरीर में इंसुलिन के सही उपयोग के लिए पेनक्रियाज के बीटा सेल को हील करता है। इसलिए सदियों से मधुमेह को कंट्रोल करने के लिए पनीर के फूलों का उपयोग किया जाता है।

 

7. पनीर के फूल अस्थमा रोग में होते हैं फायदेमंद

श्वांस रोग को दमा या अस्थमा के नाम से जाना जाता है। जैसा कि हमें विदित है कि श्वसन संश्तान का मुख्य कार्य दूषित गैंसों से भरे हुए रक्त को प्राणवायु प्रदान करना होता है। जबकि अस्थमा एक ऐसा रोग होता है जिसमें रोगी को सांस लेने में तकलीफ होती है। आयुर्वेद के अनुसार अस्थमा रोग वात एवं कफ दोष के विकृत होने से होता है जिसका तुरंत उपचार करना जरुरी है क्योंकि कभी कभी इस रोग की वजह से रोगी की मौत भी हो जाती है।

इसलिए आपको बता दें कि यदि आप अस्तमा रोग से ग्रस्त हैं या फिर इस रोग से शरीर का बचाव करना चाहते हैं तो आपके लिए पनीर के फूल बेहतर उपाय है। दरअसल पनीर के फूल में कई प्रकार के तत्व पाए जाते हैं जो दमा अर्थात अस्थमा रोगी के लिए फायदेमंद होते हैं।

 

8. मूत्रविकारों में पनीर के फूल हैं लाभकारी

मूत्र विकार एक प्रकार के नहीं बल्कि कई प्रकार के होते हैं एवं पुरुषों की तुलना में महिलाओं को मूत्र सबंधी विकारों का समाना अधिक करना पड़ता है। दरअसल मूत्र मार्ग में किसी भी प्रकार के संक्रमण की वजह से कई तरह के विकार उत्पन्न हो जाते हैं जिसके कारण मूत्र रुक-रुक कर आने लगता है, मूत्र में जलन होने लगती है अथवा मूत्र बार-बार आने लगता है इसके आलावा अन्य कई समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं जो प्रत्येक स्वस्थ व्यक्ति के लिए नुकसानदायक होती हैं।

यदि आप मूत्र विकारों को ठीक करने के लिए किसी जड़ी बूटी की खोज कर रहे हैं तो आपके लिए पनीर के फूल लाभकारी साबित हो सकते हैं। पनीर के फूलों में कई प्रकार के औषधीय गुण पाए जाते हैं जो मूत्र विकारों की ठीक करने में मददगार होते हैं।

 

9. पनीर के फूल थकान को करें दूर

आपने कई लोगों को कहते हुए यह सुना होगा की उनको किसी भी कार्य को करने में थकान होने लगती है या फिर किसी भी प्रकार की शारीरिक गतिविधि करने पर थकान होने लगती है जिसकी वजह से वह कार्यों को सही प्रकार से या कम समय में पूर्ण नहीं कर पाते हैं। दोस्तों शरीर को कार्य करने के लिए एनर्जी की जरुरत होती है और जब शरीर में एनर्जी नहीं होती है तो शरीर जल्दी थक जाता है। आपको बता दें कि पनीर के फूल थकान को दूर करने में प्रभावी साबित होते हैं। इसका इस्तेमाल करके आप शारीरिक थकान की समस्या से निजात पा सकते हैं।

 

पनीर के फूल का उपयोग | Uses of Paneer Ke Phool

indian rennet

पनीर के फूल का उपयोग वर्षों से आयुर्वेद की दवाइयों को बनाने में किया जाता रहा है। परन्तु आज भी ऐसे कई लोग हैं जो पनीर के फूलों के विषय में नहीं जानते हैं। इसलिए अधिकतर लोगों को जानकारी नहीं है कि आखिर पनीर के फूल का उपयोग किस प्रकार से किया जाता है। तो चलिए अब हम आपको इसे इस्तेमाल करने के विभिन्न तरीकों से अवगत करवाते हैं।

1. पनीर के फूल का उपयोग आप काढ़े के रूप में कर सकते हैं।

2. पनीर के फूल का उपयोग चूर्ण के रूप में कर सकते हैं।

3. कांच के एक गिलास में पानी लेकर उसमें 10 से 12 फूल डालकर रात भर के लिए छोड़ दें। सुबह खली पेट पनीर के फूलों से तैयार इस पानी का उपयोग आप कई प्रकार के रोगों में कर सकते हैं।

 

पनीर के फूल से होने वाले नुकसान | Side Effects of Paneer Ke Phool

पनीर के फूल स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होते हैं लेकिन इनका इस्तेमाल गलत तरीके से करने से यह नुक्सानदयाक भी हो सकता है। इसलिए आइए जानते हैं पनीर के फूल से होने वाले नुकसान कौन कौनसे होते हैं।

1. पनीर के फूल का इस्तेमाल गलत तरीके से करने पर उल्टी की समस्या हो सकती है।

2. पनीर के फूल का अधिक सेवन करने से गैस की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

3. पनीर के फूल का उपयोग दस्त में बिलकुल नहीं करना चाहिए।

4. गर्भवती महिलाओं को पनीर के फूल का इस्तेमाल करने से पहले चिकित्सक का परामर्श लेना चाहिए।

 

तो दोस्तों ये थी Paneer Ke Phool से जुड़ी कुछ जानकारी। हम आशा करते हैं की आप पनीर के फूल के फायदे और नुकसानों से परिचित हो गए होंगे। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।
हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here