Star anise in hindi

About Star Anise in Hindi: खाने में से अगर मसाले हटा दिए जाए तो खाना एक दम स्वादहीन हो जायेगा। इसीलिए स्वादिष्ट भोजन में मसालों का बड़ा महत्त्व माना गया है। यही वजह है कि आज कल बाजारों में कई तरह के मसाले उपलब्ध हैं। अब यूं तो आप भी कई तरह के मसाले इस्तेमाल करते होंगे लेकिन जिसकी बात आज हम आपसे करने वाले हैं उसका नाम आपने शायद ही सुना हो। जी हाँ हम बात कर रहे हैं Star anise की जिसे हिंदी में ‘चक्र फूल’ के नाम से भी जाना जाता है। अब यूं तो मसाले काफी गरिष्ट होते हैं इसलिए स्वस्थ्य के लिहाज से उनका इस्तेमाल कम करने की सलाह दी जाती है लेकिन कहते हैं स्टार अनीस यानी की चक्र फूल के कई स्वास्थ्यवर्धक फायदे हैं। अगर आप चक्र फूल की जानकारी और इसके फायदे जानना चाहते हैं तो बस आज का लेख आप ही के लिए है।

 

Page Contents

चक्र फूल क्या है | What is Star Anise in Hindi?

चक्र फूल एक दम सितारे की तरह दिखाई देता है इसलिए इसे star anise कहा जाता है। चक्र फूल का वैज्ञानिक नाम Illicium verum है। चक्र फूल का इस्तेमाल अक्सर पकने के बाद ही किया जाता है। पकने के बाद इसमें से तेज सुंगंध आती है इसलिए इसका उपयोग गरम मसाले के रूप में किया जाता है। स्टार अनीस को खास तौर पर दक्षिण भारत में व्यंजनों में इस्तेमाल किया जाता है। इस लाजवाब फूल की कलियाँ आठ भांगों में विभाजित होती हैं जिनका आकार स्टार की तरह होता है जो एक इंच तक लम्बी होती हैं एवं इन फलियों के अंदर अलसी के सामान छोटे-छोटे बीज मौजूद होते हैं। चक्र फूल का स्वाद मुलेठी और सौंफ जैसा होता है।

 

चक्र फूल का सर्वाधिक उत्पादन कहाँ होता है | Where did Star Anise found

ऐसा माना जाता है कि चक्र फूल का उत्पादन सबसे पहले दक्षिण चीन में किया गया था इसलिए इसको Chinese star anise के नाम से भी जाना जाता है। आज चक्र फूल का उत्पादन फिलीपींस, वियतनाम, कंबोडिया और भारत देश में मुख्या रूप से किया जाता है। भारत में चक्र फूल का उतपादन अरुणाचल प्रदेश में होता है।

 

चक्र फूल में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व | Nutrients of Star Anise in Hindi

चक्र फूल पौष्टिक तत्वों का का खजाना है अतः इसमें विटामिन ए, विटामिन ई, विटामिन सी, कैल्शियम, फॉस्फोरस तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसके साथ ही इसमें कई तरह के एंजाइम और एसिड पाए जाते हैं जो हेल्थ को स्वस्थ बनाने में मदद करते हैं। चक्र फूल में एंटी-माइक्रोबियल, एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण मुख्य रूप से पाए जाते हैं।

 

चक्र फूल के अन्य नाम | Some other names of Star Anise

चक्र फूल को अलग-अलग देशों में विभिन्न नामों से जाना जाता है। आइये जानते हैं चक्र फूल के क्या क्या नाम हैं।

चक्र फूल का अंग्रेजी नाम – स्टार अनीस (Star Anise)

चक्र फूल का मलेशिया में नाम – बुंगा लवंग

चक्र फूल का मलयालम में नाम – थाकोलम

चक्र फूल का फ़्रांसिसी नाम – बदिएन

चक्र फूल का फ़ारसी – बादियान

चक्र फूल का तेलुगु नाम – अनस पुव्वु

 

चक्र फूल के फायदे | Benefits of Star Anise in Hindi

star anise benefits

चक्र फूल में कई तरह के ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो फंगस और बैक्ट्रिया को नष्ट करके शरीर और त्वचा को निरोगी बनाते हैं। स्टार एनीस या चक्र फूल स्वस्थ शरीर के लिए बेहद फायदेमंद हैं लेकिन सवाल यह उठता है कि आखिर इसके फायदे क्या हैं तो चलिए अब आपको बताते हैं कि चक्र फूल के कौन-कौन से अनोखे फायदे हैं।

 

1. फ्लू जैसी बीमारियों को रोकने में मदद करे | Helps to fight with viral infections

दिन प्रतिदिन हमारा वातावरण प्रदूषित होता जा रहा जिसकी वजह से बैक्टीरिया संक्रमण का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। आज के समय में फ्लू, मलेरिया, डेंगू आदि रोगों का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। यह ऐसे रोग हैं जो किसी भी समय एक सवस्थ शरीर को अपना शिकार बना सकते हैं इसलिए प्रतिदिन हमें अपने शरीर को इन रोगों से बचने के लिए संतुलित व पौष्टिक तत्वों का सेवन करना आवश्यक है। फ्लू बिमारियों से शरीर को बचने के लिए आप चक्र फूल का इस्तेमाल कर सकते हैं बता दें कि चक्र फूल में थायमोल, टेरपीनिल, एनिथोल, जीवाणुरोधी गुण पाए जाते हैं जो बैक्ट्रिया संक्रमण से शरीर का बचाव करते हैं। तो आईये जानते हैं आप किस तरह से चक्र फूल का इस्तेमाल करके फ्लू जैसी बिमारियों से बच सकते हैं

 

सामग्री –

  • 1 चक्र फूल
  • 4 से 5 तुलसी की पत्तियां
  • 2 काली मिर्ची के दाने
  • 2 लौंग
  • थोड़ा सा पानी

 

सेवन करने की विधि –

पानी को गर्म करने के लिए गैस पैर धीमी आंच पर रख दें। अब इस पानी में चक्र फूल, लौंग, काली मिर्ची के दाने और तुलसी कि पत्तियां डालकर 4 से पांच मिनिट तक उबालें। पानी उबाल जाये तो गैस बंद करके चलनी की सहायता से पानी को छान कर गुनगुना करके सेवन कर लें। इस उपाय को करने से आप कई तरह के बैक्टीरिया संक्रमण से अपने शरीर का बचाव कर सकते हैं।

 

2. स्तनपान कराने वाले महिलाओं के लिए है रामबाण | Good for women in breastfeeding

अक्सर देखने में आता है कि प्रसव हो जाने के बाद कई महिलाओं के स्तनों में से दूध नहीं निकलता है। जिसकी वजह से शिशु भूखा रहता है और उसका ठीक तरीके से शारीरिक और मानसिक विकास नहीं हो पाता है। प्रसव के दौरान दूध नहीं निकलने के कई कारण हो सकते हैं लेकिन सबसे गंभीर बात ये है कि जब बच्चे के पेट माँ के दूध से नहीं भरता है तो मजबूर होकर उसको पाउडर वाला दूध या गाय, भैंस का दूध पीला दिया जाता है जो कि शिशु अथवा बच्चे को किसी भी तरह से संक्रमित कर सकता है। इस समस्या से ग्रस्त महिलाओं के लिए चक्र फूल का इस्तेमाल करना फायदेमंद साबित होता है। चक्र फूल में कुछ ऐसे मिनल्स पाए जाते हैं जो महिलाओं के स्तनों में दूध की वृद्धि करने में सहायक होते हैं। स्तनों में दूध वृद्धि के लिए इस तरीके से करें चक्र फूल का इस्तेमाल

 

सामग्री –

  • 300 ग्राम दूध
  • आधी छोटी चम्मच चक्र फूल का पाउडर

 

सेवन करने की विधि –

दूध में स्वादानुसार चीनी डालकर गर्म कर लें। दूध गर्म हो जाने के बाद इसमें चक्र फूल का पाउडर डालकर सेवन करें।

 

3. मुँह की दुर्गन्ध को करे दूर | Remove mouth odor with Star anise in Hindi

मुँह में दुर्गन्ध किसी भी उम्र के व्यक्ति में आ सकती है। हालाँकि मुँह में से दुर्गन्ध आना कोई जेल रोग नहीं हैं लेकिन मुँह से आने वाली दुर्गन्ध की वजह से स्वयं को तो दूसरों के सामने शर्मिंदगी का सामना करना ही पड़ा है साथ ही दूसरे व्यक्तियों का दिमाग भी ख़राब हो जाता है अर्थात यदि मुँह में से आने वाली दुर्गन्ध वाला व्यक्ति किसी व्यक्ति के पास बैठता है तो दुर्गन्ध की वजह से उसका दिमागी संतुलन ख़राब हो जाता है। इसलिए इस समस्या का उपचार जल्द से जल्द करना बेहद जरुरी होता है। चक्र फूल में माइक्रोबियल, एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाए हैं जो मुँह की दुर्गन्ध को हमेशा के लिए खत्म कर देते हैं। चक्र फूल का इस तरीके से इस्तेमाल करके आप मुँह की दुर्गन्ध को दूर कर सकते हैं।

 

समाग्री –

  • एक छोटी चम्मच चक्र फूल का पाउडर
  • 1/4 छोटी चम्मच हल्दी
  • 1/4 छोटी चम्मच नमक
  • 1/4 छोटी चम्मच पीसा हुआ फिटकरी का पाउडर
  • पानी

 

सेवन करने की विधि –

सबसे पहले गैस पर गर्म होने के लिए पानी को रख दें। पानी को 5 मिनिट तक उबालें। ठीक तरह से उबाल जाये तो एक गिलास में पानी को डाल लें। इस उबले हुए पानी में हल्दी, नमक और चक्र फूल का पाउडर डालकर अच्छे मिला लें। पानी जब गुनगुना हो जाये तो इस पानी से खाना खाने के बाद कुल्ला करें। रोज इस प्रयोग को करने से मुँह की दुर्गन्ध दूर हो जाती है।

 

4. दांतों का पीलापन करे दूर | Remove yellowishness of the teeth

दाँतों का पीलापन ना सिर्फ व्यक्ति की सुंदरता को प्रभावित करता है अपितु खुलकर हंसने पर भी रोक लगा देता है। चूँकि प्रत्येक व्यक्ति को मोतियों जैसे चमकते दमकते दाँत पसंद होते हैं इसलिए अक्सर कई लोग दाँतों का पीलापन हटाने के लिए कई उपायों को आजमाते हैं लेकिन फिर भी अपने दांतों को चमकाने में कामयाब नहीं हो पाते हैं। बता दें दाँतों को पीलेपन से मुक्ति दिलाने में चक्र फूल बेहद लाभकारी औषधि है अतः चक्र फूल की मदद से आप अपने दांतो को सफ़ेद खूबसूरत बना सकते हैं। चक्र फूल सिर्फ दाँतों का पीलापन दूर करने में ही मददगार नहीं होता है बल्कि यह दांतों को मजबूत बनाता है साथ ही दाँतों से आने वाले खून के स्त्राव को भी रोकता है। इसके अतरिक्त मसूंड़ो में होने वाले दर्द और सूजन को कम करने में भी चक्र फूल लाभकारी होता है। चक्र फूल का इस तरीके से इस्तेमाल करके दांतो का पीलापन करें दूर

 

सामग्री –

  • चक्र फूल का पाउडर
  • 10 सूखे नींबू के छिलका
  • 10 संतरा के सूखे छिलका

 

सेवन करने की विधि –

सूखे नींबू के छिलका और संतरा के सूखे छिलका को पीस कर पाउडर बना लें। अब इस मिश्रण में चक्र फूल का पाउडर मिलाकर दिन में दो या तीन बार मंजन करें।

 

यह भी पढ़िए: दांत के पीलेपन को दूर करने के उपाय

 

5. पाचन शक्ति बढ़ाए | Improve your digestion with Star Anise in Hindi

पाचन शक्ति यानी पाचन तंत्र मानसिक और शारीरिक रोगों का जन्मदाता होता है। पाचन तंत्र के खराब होने कि वजह से कब्ज, गैस, पेट का फूलना, पेट में सूजन, पेट में दर्द, सिरदर्द, त्वचा रूखी होना, खट्टी डाकरें आना जैसी कई ब्रोगों रोगों से हमारा शरीर ग्रस्त हो जाता है।

चक्र फूल एक ऐसा ओषधिए मसाला है जिसमें फॉस्फोरस , विटामिन सी और कई तरह के एंजाइम पाए जाते हैं जो पाचन तंत्र को मजबूत और शक्तिशाली बनाते हैं। यदि आप पचने तंत्र को ठीक करने के लिए कई उपाए अपना चुकें हैं लेकिन फिर आप इस समस्या से पीड़िता हैं तो आपको चक्र फूल का इस्तेमाल एक बार जरूर करके देखना चाहिए क्यूंकि इसका उपयोग करने से यकीनन आपकी पाचन शक्ति मजबूत बनेगी। पाचन शक्ति को मजबूत बनाने के लिए चक्र फूल का प्रयोग इस तरीके से करें।

 

सामग्री –

  • 6 चक्र फूल
  • 10 ग्राम सौंफ
  • 50 ग्राम अजवाइन
  • 5 ग्राम दारू हल्दी
  • 5 ग्राम जीरा

 

सेवन करने की विधि –

सर्वप्रथम चक्र फूल, सौंफ, अजवाइन, जीरा, दारू हल्दी को मिक्सर की सहायता से दरदरी पीसकर कांच के डिब्बे में भरकर रख लें। इस्तेमाल करने से पहले एक गिलास पानी में तैयार पाउडर डालकर ठीक तरीके से उबालें। पानी उबाल जाने के बाद छलनी से पानी को छान लें और हल्का ठंडा हो जाने के बाद सेवन करें। प्रतिदिन सुबह शाम खाने के 30 मिनिट बाद इस उपाय को करने से जल्द ही पाचन तंत्र मजबूत बन जाता है।

 

6. मस्तिष्क के लिए है फायदेमंद | It is beneficial for the brain

चक्र फूल एक गुणकारी फूल है जिसके तेल का इस्तेमाल मुख्य रूप से अरोमा थेरपी में किया जाता है। इसके तेल में से आने वाली सुंगंध मस्तिष्क को शांत बनाती है। जिसकी वजह से व्यक्ति तनाव या डिप्रेशन का शिकार होने से बच जाता है। आमतौर पर तनाव की समस्या बढ़ती ही जा रही है जिसको दूर करने के लिए ज्यादातर लोग दवाइयों को सहारा लेते हैं जो स्वस्थ के लिए काफी हानिकारक होती हैं। बता दें कि दवाइयों का उपयोग किये बिना भी आप तनाव रहित हो सकते हैं अतः चक्र फूल तनाव से मुक्ति दिलाने में फायदेमंद होता है।

विधि – रोज सुबह-शाम चक्र फूल के तेल से बालों की मालिश करें। इस उपाय को करने से मस्तिष्क को शांति और ठंडक मिलती है।

 

7. लम्बे समय तक रहें जवान | Makes your skin tight & wrinke free

चक्र फूल में एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन ए, विटामिन ई जैसे कई मिनल्स पाए जाते हैं जो त्वचा को टाइट, बेदाग और झुर्रियों से निजात दिलाते हैं। चक्र फूल में पाए जाने वाले विटामिन्स बढ़ती उम्र के लक्षणों को रोकने में मदद करते हैं। चक्र फूल में फ्री रेडिकल्स को कंट्रोल में करने की क्षमता पाई जाती है जिसकी वजह से त्वचा गोरी, टाइट और फाइन लाइंस रहित बनती हैं। यदि आप भी जवां और खूबसूरत दिखने कि चाहत रखते हैं तो आपके लिए सबसे बेहतरीन विकल्प चक्र फूल है। इसके इस्तेमाल से आपकी त्वचा खिली खिली नजर आएगी। जवां दिखने के लिए चक्र फूल का इस्तेमाल इस तरीके से करें

 

सामग्री –

  • एक छोटी चम्मच चक्र फूल का पाउडर
  • आधी छोटी चम्मच कॉफ़ी पाउडर
  • आधी छोटी चम्मच चावल का आटा
  • एक छोटी चम्मच शहद

 

सेवन करने की विधि –

चक्र पाउडर, कॉफी पाउडर, चावल के आटे को शहद में मिलाकर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को फैलाकर चेहरे और गर्दन की त्वचा पर लगा लें। 10 से 15 मिनिट तक पेस्ट को त्वचा पर लगा रहने दें। इसके बाद त्वचा को ठन्डे पानी से धो लें।

 

चक्र फूल के अन्य फायदे | Some Other Benefits of Star Anise in Hindi

star anise image

1. चक्र फूल में माइक्रोबियल और एंटी वायरल गुण पाए जाते हैं जो सर्दी खांसी जैसे रोगों से छुटकारा दिलाते हैं।

2. चक्र फूल का सेवन दूध के साथ करने से अनिद्रा की बीमारी दूर होती है।

3. शरीर पर होने वाले घाव या चोट पर चक्र फूल के पेस्ट या चाय का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है।

4. चक्र फूल दर्द निवारक होता है अतः इसके तेल का इस्तेमाल जोड़ों के दर्द को ठीक करने में फायदेमंद होता है।

5. चक्र फूल में एंटीफंगल तत्व पाए जाते हैं जो आपको फंगल इन्फेक्शन से बचाने में फायदेमंद होते हैं।

6. चक्र फूल का स्वाभाव गर्म होता है जिसकी वजह से यह शरीर को गर्म बनाने में सहायक होता है।

 

चक्र फूल का उपयोग | Uses of Star Anise in Hindi

star anise uses

चक्र फूल का उपयोग ज्यादातर लोगों ने केवल गरम मसाले के रूप में ही किया होगा लेकिन आपको बता दें कि चक्र फूल का उपयोग आप कई तरीके से कर सकते हैं। तो आइये जानते हैं चक्र फूल का इस्तेमाल किन-किन तरीकों से किया जा सकता है।

1. चक्र फूल की चाय बनाकर इसका उपयोग किया जा सकता है।

2. चक्र फूल का काढ़ा बनाकर इसका इस्तमाल कर सकते हैं।

3. चक्र फूल का दूध बनाकर इसका उपयोग किया जा सकता है।

4. मिठाई का स्वाद बढ़ाने के लिए आप चक्र फूल का उपयोग कर सकते हैं।

5. जैम और सूखे पाउडर के रूप में इसका उपयोग किया जा सकता है।

6. चक्र फूल का पेस्ट और स्प्रे बनाकर त्वचा पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

 

चक्र फूल से होने वाले नुकसान | Side Effects of Star Anise in Hindi

1. चक्र फूल की तासीर गर्म होती है। इसका ज्यादा सेवन करने से पेट और गले में जलन हो सकती है।

2. चक्र फूल का अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से उल्टी हो सकती है।

3. गर्भवती महिलाओं को चिकत्सक का परामर्श लेने के बाद ही चक्र फूल का इस्तेमाल करना चाहिए।

4. चक्र फूल का इस्तेमाल छोटे बच्चों को नहीं करना चाहिए।

5. चक्र फूल का उपयोग सही मात्रा में ना करने से अपच की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

 

यह भी पढ़िए: दालचीनी के फायदे और इससे जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी

 

तो दोस्तों ये थी चक्र फूल (Star anise in hindi) से जुड़ी कुछ जानकारी। हम आशा करते हैं की आप चक्र फूल के समस्त फायदे और नुकसानों से परिचित हो गए होंगे। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।
हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here