spam meaning in hindi

About Spam in Hindi: कंप्यूटर और मोबाइल डिवाइस के बढ़ते इस्तेमाल से इनसे जुड़ी और भी कई चीजें सुनने को मिलती रहती हैं। अगर आप इन डिवाइस पर इंटरनेट इस्तेमाल करते हैं या फिर आपका अपना ईमेल अकाउंट है तो आपने Spam शब्द अवश्य ही सुना होगा या इसे कहीं न कहीं पढ़ा होगा। अब यदि आप इस शब्द के मतलब से अनजान हैं और ये सोच रहे हैं की स्पैम आखिर क्या है। तो बने रहे हमारे साथ इस पोस्ट में क्युकी आज हम आपको बताने जा रहे हैं स्पैम का मतलब और इस शब्द से जुड़ी समस्त जानकारी। तो चलिए शुरू करते हैं।

 

स्पैम का हिंदी में क्या मतलब है | Spam Meaning in Hindi

दोस्तों स्पैम एक अंग्रेजी शब्द है जो मुख्या रूप से तकनीक से जुड़ा हुआ है। इसका हिंदी में विशेष रूप से कोई मतलब नहीं होता है परन्तु अंग्रेजी में अगर इस शब्द का स्पष्टीकरण करना पड़े तो स्पैम का मतलब है ”Unsolicited Email or Irrelevant Messages sent on the Internet”. यानी हिंदी में अगर इसका meaning निकला जाए तो स्पैम का मतलब हुआ इंटरनेट पर भेजे जाने वाले अप्रासंगिक या अनचाहे संदेश।

Spam Meaning in Hindi = इंटरनेट पर भेजे जाने वाले अप्रासंगिक या अनचाहे संदेश।

 

स्पैम क्या है | What is Spam in Hindi

Spam का meaning जानने के बाद आप इसके बारे में थोड़ा तो शायद समझ ही गए होंगे। चलिए अब स्पैम को विस्तारपूर्वक जानते हैं।

स्पैम शब्द का इस्तेमाल सबसे पहले इंटरनेट पर आने वाले अनचाहे या अप्रासंगिक या गुमनाम emails के लिए किया गया था। शुरू में spam emails सिर्फ विज्ञापन करने के लिए भेजे जाते थे परन्तु बाद में इनका उपयोग और भी कई चीजों के लिए किया जाने लगा जिसमें धोखाधड़ी भी शामिल है। स्पैम इमेल्स की ख़ास बात यह है की यह हमेशा bulk में भेजे जाते हैं और ये वह इमेल्स होते हैं जो रिसीवर (प्राप्तकर्ता) को भी नहीं पता होता की कहाँ से आये हैं।

कहीं भी स्पैम करना spamming (स्पैमिंग) कहलाता है। स्पैमिंग सिर्फ ईमेल के द्वारा ही नहीं की जाती बल्कि यह आज और भी कई जगह देखने को मिल जाती है जैसे कि व्हाट्सप्प मैसेंजर पर, ब्लॉग के कमेंट बॉक्स में, सोशल मीडिया साइट्स जैसे की ट्विटर और फेसबुक पर यह फिर किसी फोरम वेबसाइट पर आदि। कई जगह जैसी कि सोशल मीडिया साइट्स पर fake accounts बनाकर कमेंट करना या फिर false links का शेयर करना भी स्पैमिंग की श्रेणी में ही आता है।

 

स्पैम कहाँ और कैसे आता है | Where and how does spam comes

विभिन्न जगहों पर स्पैम अलग-अलग तरीके से देखने को मिल जाता है जैसे कि मैसेंजर की अगर बात करे (like facebook messenger or watsapp) तो यहाँ खूब स्पैम मैसेज देखने को मिल जाएंगे जो की विज्ञापन के रूप में, फर्जी खबर के रूप में या फिर धार्मिक अफवाह के रूप में फैलाये जाते हैं। सोशल मीडिया पर भी स्पैमिंग इससे अलग नहीं है। पॉपुलर सोशल मीडिया साइट्स जैसे की ट्विटर और फेसबुक पर लोग फर्जी अकाउंट बनाकर खून spam comments और messages भेजते हैं।

ईमेल पर spam आना सबसे ज्यादा आम हैं। हलाकि ज्यादातर ईमेल कम्पनियॉं ने अब Anti spam program लगा रखा है जो की कई बार अपने आप स्पैम को डिटेक्ट करके ईमेल को स्पैम फोल्डर में दाल देता है। परन्तु कई बार स्पैमर्स चालाकी करके अपने ईमेल को ऐसा स्वरुप देते हैं की एंटी स्पैम प्रोग्राम भी ऐसे डिटेक्ट नहीं कर पाता और आपके inbox में spam को दर्शा देता है। स्पैमर्स अधिकांश स्पैम ऐसी कंपनियों के नाम से भेजते हैं जिनसे आप भलीभांति परिचित हैं जिससे की आप उनके झांसे में आ कर स्पैम खोल के पड़ने लगते हैं और धोके से किसी malicious लिंक पर क्लिक कर बैठते हैं।

 

स्पैम के मुख्या प्रकार | Types of Spam in Hindi

types of spam in hindi

जैसा की ऊपर बताया spamming कई तरह से की जाती है। इसी लिए आज के समय में स्पैम शब्द ना सिर्फ ईमेल पर बल्कि सोशल मीडिया साइट्स, मैसेंजर, ब्लॉग, फोरम और कई अन्य जगह भी सुनने को मिल जाता है। स्पैमिंग के बारे में और बारीकी से जानने के लिए और spam से बचने के लिए हमें स्पैम के प्रकार पता होना आवश्यक हैं। तो चलिए इसके प्रकारों के बारे में जानते हैं।

 

1. थोक संदेश | Bulk Messaging

थोक में सन्देश भेजना यानी bulk messaging करना स्पैम का सबसे मुख्या प्रकार है। इस तरह के बल्क मैसेज करोड़ों-अरबों की तादाद में रोजाना दुनिया भर में भेजे जाते हैं। इस तरह के स्पैम मैसेज मुख्यता विज्ञापन भरे होते हैं। इसमें स्पैमर का मुख्या उद्देश्य आपको कोई प्रोडक्ट बेचना होता है। Bulk messaging कई बार followers बढ़ाने या फिर malware फैलाने के लिए भी की जाती है।

 

2. क्लिकबेटिंग | Clickbaiting

क्लिकबेटिंग मतलब है की सनसनीखेज या भड़काऊ हेडलाइन लिख कर के उपयोगकर्ता को अपनी पोस्ट या फिर अपने कंटेंट पर click करने के लिए उकसाना। जहाँ भी कंटेंट शेयर किया जाता है चाहे वह फिर कोई फोटो हो या वीडियो कंटेंट या फिर कोई लेख वहां उस प्लेटफार्म पर Clickbaiting देखने को मिल ही जाती है।

इस तरह का spam, ईमेल के जरिये भी किया जाता है जहाँ spammer द्वारा ईमेल में कुछ ऐसी भड़काऊ हैडलाइन लिखी जाती हैं की यूजर उसके दिए Call to action बटन पर क्लिक करने के लिए मजबूर हो जाता है।

 

3. दुर्भावनापूर्ण लिंक फैलाना | Sending Malicious Links

Malicious links फैला कर स्पैम करने वालों की कमी नहीं हैं। इसमें स्पैमर का मुख्या उद्देश्य आपके डिवाइस में वायरस फैलाना होता है जिससे की वो आपके डिवाइस का डाटा चुरा सके। इस तरह की स्पैमिंग कमेंट के जरिये फोरम पोस्ट के जरिये और मुख्यता ईमेल के जरिये की जाती है।

इस तरह के स्पैम मैसेज में एक लिंक दी होती है जिसमे spammer बेवकूफ बना के आपको link पर क्लिक करवाने की कोशिश करता है। अगर आप उस लिंक पर क्लिक कर देते हैं तो आपके डिवाइस में malware आ जाता है या फिर कई बार डिवाइस hack होने का भी खतरा पैदा हो जाता है।

 

4. अवांछित सामग्री साझा करना | Sharing Undesired Content

कई बार फेक अकाउंट बना कर फोरम वेबसाइट पर, सोशल मीडिया साइट पर या फिर आपके अपने ब्लॉग कमैंट्स में अवांछित सामग्री साझा की जाती है। ये सामग्री अपमान, धमकी या फिर विज्ञापन कुछ भी हो सकते हैं। इस तरह की सामग्री कई बार अपने फायदे के लिए तो कई बार आपकी पोस्ट की वैल्यू गिराने के लिए साझा की जाती है।

इस तरह का स्पैम आप बड़े बड़े सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर या फिर जिनके ज्यादा फोल्लोवेर्स हैं उन व्यक्ति की पोस्ट के कमेंट बॉक्स में देख सकते हैं। जहाँ कई spammers अपने प्रोडक्ट बेचने को लेकर unlimited comments डालते रहते हैं।

 

5. कपटपूर्ण समीक्षा करना | Providing Fraud Reviews

कपटपूर्ण समीक्षा करना भी स्पैम का ही एक हिस्सा है। इस तरह का स्पैम ब्लॉग पोस्ट के comment box में या फिर सोशल मीडिया पर खासकर देखने को मिलता है। इतना ही नहीं कई बार लोग eccomerce वेबसाइट पर भी fake account बना कर प्रोडक्ट के reviews गिराने या फिर बढ़ाने के लिए स्पैम करके Fraud Reviews देते हैं।

 

स्पैम से कैसे बचे | Some Tips to Avoid Spam in Hindi

spam in hindiदोस्तों अगर कुछ बातों को ध्यान में रखा जाए तो स्पैम से बचा जा सकता है। तो चलिए इन बातों को विस्तारपूर्वक देखते हैं।

1. कोई भी आसान ईमेल एड्रेस का इस्तेमाल ना करें। इससे स्पैम ईमेल आने की सम्भावना अत्यधिक होती है।

2. कोई भी ब्लॉग या फोरम वेबसाइट जहाँ पर लोग स्पैम करते हों वहां पर अपने ईमेल एड्रेस का इस्तेमाल बिलकुल भी ना करें।

3. किसी अनचाहे ईमेल या सोशल मीडिया पर आए मैसेज में दिए अटैचमेंट या लिंक पर क्लिक ना करें। इससे ना सिर्फ आपके डिवाइस में वायरस आने का खतरा रहता है बल्कि ऐसा करने से आप स्पैमर को यह भी पुष्टि कर देते हैं की आपका ईमेल पता मान्य है और आपको भेजे जाने वाली लिंक पर क्लिक करने की सम्भावना भी है।

4. ज्यादातर मामलों में spammer को आपके ईमेल पते को जानने की आवश्यकता होती है, इससे पहले कि वे आपको स्पैम कर सकें। इसलिए जितना संभव हो सके अपने ईमेल पते को अपने पास रखें और इसका उपयोग केवल काम के उद्देश्य के लिए करें।

5. किसी भी वेबसाइट या फोरम पर कुछ पोस्ट करते समय अपने ईमेल एड्रेस को अपने सिग्नेचर में इस्तेमाल ना करे।

6. मंचों, ऑफर और अन्य सार्वजनिक सेवाओं के लिए साइन अप करते समय कभी भी अपने काम के ईमेल पते का उपयोग न करें।

7. किसी भी अप्रासंगिक ईमेल में दिए unsubscribe लिंक पर क्लिक ना करें। हो सकता है ये स्पैमर को चाल हो और इससे उसे पता चल जायेगा की आपका ईमेल पता वैलिड है और फिर वो आपको और स्पैम ईमेल भेजने लगेगा।

8. यदि यह उपयोग की शर्तों को नहीं तोड़ता है, तो डिस्पोजेबल ईमेल पतों का उपयोग करने पर विचार करें। यदि शब्द डिस्पोजेबल ईमेल के उपयोग को प्रतिबंधित करते हैं, तो मुफ्त ईमेल सेवाओं का उपयोग करें जिसमें स्पैम फिल्ट्रिंग शामिल है।

9. Spam emails को डिलीट करने की जगह उन्हें रिपोर्ट करें। इससे आप एंटी स्पैम प्रोग्राम को यह चिन्हित कर पाएंगे की इस तरह के ईमेल स्पैम हैं जिससे वो भविष्य में इन ईमेल को अपने आप स्पैम फोल्डर में डाल देगा।

 

तो ये थी दोस्तों Spam से जुड़ी कुछ महत्पूर्ण जानकारी। हम आशा करते हैं की आपको स्पैम क्या है (Spam meaning in Hindi) समझ आ गया होगा। दोस्तों आपको ये जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।
हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here