dates in hindi

About Dates in Hindi: शीत ऋतू आते ही अधिकतर लोगों का मन मीठा खाने के लिए ललचा उठता है। लेकिन कई लोग मीठा खाने से इसलिए जी चुरा लेते हैं क्योंकि मीठा स्वस्थ के लिए हानिकारक होता है। अब आप सोच रहे होंगे कि आज हम आपसे गुड़ या चीनी के बारे में चर्चा करने वाले हैं। तो दोस्तों ऐसा नहीं है बल्कि आज हम आपसे एक ऐसे फल के बारे में बात करने वाले हैं जो खाने में तो मीठा है ही साथ ही सेहत के लिए भी बेहद फायदेमंद है। जी हाँ दोस्तों हम बात कर रहे हैं khajur की जो स्वास्थ के लिए बड़ा लाभदायक होता है।

आयुर्वेद में खजूर (Dates) को एक औषधि के रूप में स्वीकार किया है। हमेशा की तरह आपके स्वास्थ का ख्याल रखते हुए आज हम आपको खजूर से होने वाले फायदों से रूबरू कराने वाले हैं जो यकीनन आपके लिए लाभकारी साबित होंगे। तो चलिए विस्तार से जानते हैं khajur से जुड़े कुछ महत्पूर्ण तथ्य व खजूर से होने वाले फायदे।

 

Page Contents

खजूर क्या होता है | What is (Khajur) Dates in Hindi

खजूर एक प्रकार का पौष्टिक व बलवर्धक फल होता है जिसका उपयोग ड्राई फ्रूट के रूप में भी किया जाता है। यह एक ऐसा अनोखा फल है जिसका सेवन ताजे फल के रूप में भी किया जा सकता है एवं स्टोर करके इसका उपयोग कई महीनों पश्चात भी किया जा सकता है।

आपको बता दें कि khajur का वानस्पतिक नाम फ़ीनिक्स डेक्टिलिफेरा (Phoenix dactylifera) है। यह फल स्वाद में मीठा और रस युक्त होता है। आमतौर पर इस फल का रंग गहरा पीला व लाल होता है। वहीं सूखे खजूर का रंग भूरा होता है।

 

खजूर की तासीर :

दोस्तों कई लोग मानते हैं की खजूर की तासीर गर्म होती है लेकिन ऐसा नहीं है। आपको बता दें कि आयुर्वेद के अनुसार खजूर की तासीर को ठंडा माना गया है।

 

कैसा होता है खजूर का पेड़ | How did Dates plant look like

dates tree in hindi

खजूर के पेड़ बेहद आकर्षित होते हैं इसलिए अक्सर आपने खजूर के पेड़ों को कभी न कभी गार्डन अथवा सड़कों के किनारे देखा होगा। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन्होंने खजूर के पेड़ को नहीं देखा है इसलिए आपको बता दें कि खजूर का पेड़ ताड़ व स्थूल होता है एवं इसका संबंध ऐरिकेसी (Arecaceae) कुल से होता है।

खजूर के पेड़ की लम्बाई लगभग 8 से 20 मीटर तक होती है। नारियल पेड़ की भांति ही khajur पेड़ के तने विशाल पंखों की तरह होते हैं एवं तनों में लगने वाली पत्तियों की लम्बाई 4 से 6 मीटर होती है जबकि खजूर के फल की लम्बाई लगभग एक सेंटीमीटर तक होती है।

 

खजूर में पाए जाने वाले पौष्टिक तत्व | Nutrients of Dates in Hindi

मीठे फल के रूप में प्रचलित खजूर के पौष्टिक गुणों की बात करें तो यह किसी से कम नहीं हैं। आपको बता दें कि khajur में विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, विटामिन के, विटामिन डी, विटामिन बी-6 सहित आयरन, कैल्शियम, फाइबर, मैग्नीशियम, पोटैशियम, फैटी एसिड, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, सोडियम, जिंक व एंटीऑक्सीडेंट तत्व उच्च मात्रा में पाए जाते हैं।

 

खजूर के प्रकार | Types of Dates in Hindi

दोस्तों खजूर एक ऐसा लाजबाब फल है जो अनेक प्रकार की किस्मों में पाया जाता है अर्थात खजूर के सिर्फ एक या दो प्रकार नहीं है बल्कि इसके कई प्रकार हैं। तो चलिए अब हम आपको खजूर के केवल उन्हीं प्रकारों के बारे में बताते हैं जो लोगों को स्वाद में पसंद होने के कारण अधिक प्रचलित हैं।

 

1. डेगलेट नूर | Deglet Noor Khajur

दोस्तों जो लोग मीठा कम पसंद करते हैं वो डेगलेट नूर का सेवन कर सकते हैं क्योंकि खजूर की इस किस्में का स्वाद कम मीठा होता है। आपको बता दें कि डेगलेट नूर की खास बात यह है कि यह अल्जीरिया की सबसे बेहतर खजूर की किस्मों में से एक है।

 

2. बरही | Barhi Khajur

यदि आप मोटे खजूर खाना पसंद करते हैं तो आप बरही किस्म के खजूर का सेवन कर सकते हैं। दरअसल अन्य प्रकार के खजूरों की तुलना में बरही खजूर का गुदा मोटा व नरम होता है एवं बरही खजूर का रंग सुनहरा पीला होता है।

 

3. मेडजूल | Medjool Khajur

कई लोगों को खजूर का पीला और लाल रंग पसंद नहीं होता है इसलिए कई लोग खजूर खाने से परहेज करते हैं। लेकिन दोस्तों आपको बता दें कि खजूर काला रंग का भी होता है। जी हाँ मेडजूल खजूर की एक ऐसी किस्म है जिसका रंग काला होता है। साथ ही यह अन्य खजूर की किस्मों की तुलना में अधिक पौष्टिक होती है। यही वजह है कि मेडजूल अधिकतर लोगों का पसंदीदा फल होता है क्योंकि इसका स्वाद चॉक्लेट की तरह होता है।

 

4. खद्रावी | Khadrawi Khajur

दोस्तों आपने कभी न कभी बुजुर्गों से छूआरे के बारे में अवश्य ही सुना होगा। तो हम आपको बता दें कि खद्रावी किस्म के खजूरों का इस्तेमाल ही छूआरे के रूप में किया जाता है।

 

5. अजवा | Ajwa Khajur

यदि आप छोटे सुंदर और मुलायम खजूर खाने के शौकीन हैं तो आप अजवा खजूर का सेवन कर सकते हैं क्योंकि अजवा खजूर अन्य खजूरों की तुलना में छोटा होता है। अजवा खजूर की इस किस्म की खासियत यह है की इसमें से गुलाब के फूल जैसी सुगंध आती है।

 

खजूर के विभिन्न नाम | Different Names of Khajur

दोस्तों केवल खजूर विभिन्न प्रकार की किस्मों में नहीं पाया जाता है बल्कि खजूर विभिन्न प्रकार के नामों से भी जाना जाता है। यदि आप अभी तक खजूर के विभिन्न नामों से परिचित नहीं है तो चलिए आज आपको खजुर के अलग अलग नाम भी बताते हैं।

हिंदी में खजूर का नाम – देशी खजूर, सलमा, खजूरी

संस्कृत में खजूर का नाम – पिण्डीफल

अंग्रेजी में खजूर का नाम – डेट्स, वाइल्ड डेट

मराठी में खजूर का नाम – बोई चांद

तमिल में खजूर का नाम – इचमपनाई

तेलगु में खजूर का नाम – इण्टाचेट्ठ

गुजरती में खजूर का नाम – खाकरि

बंगाली में खजूर का नाम – खेजूर गाछ

पंजाबी में खजूर का नाम – खाजी

मलयालम में खजूर का नाम – इन्टा

 

खजूर के लाजवाब फायदे | Benefits of (Khajur) Dates in Hindi

benefits of dates in hindi

खजूर आसानी से मिलने वाला एक ऐसा फल है जिसका इस्तेमाल सदियों से सेहत को स्वस्थ बनाने के लिए किया जाता रहा है। यदि आप अभी तक इसके फायदों से अनजान हैं तो आपको चिंतित होने की जरुरत नहीं है क्योंकि अब हम आपको खजूर से होने वाले बेमिसाल फायदों से रूबरू कराने वाले हैं।

 

1. खजूर का सेवन बुजुर्गों के लिए है लाभकारी

मनुष्य की बढ़ती उम्र के साथ ही शरीर कमजोर होने लगता है जिसकी वजह से व्यक्ति दूसरों पर आश्रित हो जाता है। चूँकि उम्र बढ़ने के साथ शरीर में कई प्रकार के पौष्टिक तत्वों की कमी हो जाने की वजह से शरीर की मांसपेशियां व हड्डियां सुचारु रूप से कार्य करना बंद कर देती हैं। इस वजह से व्यक्ति लाचार हो जाता है।

बता दें खजूर एक ऐसा फल है जो बढ़ती उम्र के लोगों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। खजूर में कैल्शियम, आयरन, प्रोटीन जैसे कई प्रकार के गुणकारी तत्व पाए जाते हैं जो बुजुर्गों के शरीर को स्वस्थ रखने के आलावा बलशाली बनाने में मदद करते हैं।

 

2. हड्डियों को बनाता है बलशाली

हड्डियां मनुष्य के शरीर के लिए कितनी अहम होती है इस बात को हम सभी भली भांति जानते हैं। लेकिन कई लोग ऐसे भी होते हैं जो हड्डियों की ओर ध्यान नहीं देते हैं जिसके कारण हड्डियां कमजोर जाती हैं। लेकिन यदि आप हड्डियों को मजबूत बनाने का प्रयत्न कर रहे हैं तो आपके लिए खजूर बेहद गुणकारी फल है। हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए सुबह शाम खजूर दूध का सेवन करना फायदेमंद होता है।

 

3. खजूर करे रक्तचाप को नियंत्रित

तेज गति से बढ़ता हुआ रक्तचाप वर्तमान समय में गंभीर रोग बन चुका है। यदि आप हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से जूझ रहे हैं तो आप खजूर का इस्तेमाल कर सकते हैं। दरअसल खजूर में पोटैशियम व मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो रक्तचाप को नियंत्रित करने में फायदेमंद होता है। यदि आप रक्तचाप को नियंत्रित करना चाहते हैं तो दूध के साथ खजूर का उपयोग कर सकते हैं।

 

4. खजूर से बनाएं पाचन तंत्र मजबूत

दोस्तों पाचन तंत्र का स्वस्थ रहना शरीर के लिए बेहद आवश्यक होता है क्योंकि खरब पाचन तंत्र कई प्रकार की गंभीर समस्याओं को जन्म देने वाला माना जाता है। इसलिए प्रत्येक मनुष्य यदि स्वस्थ रहना चाहता है तो सबसे पहले उसका पाचन तंत्र का सही होना जरुरी है।

आपको बता दें कि खजूर एक ऐसे औषधि है जिसका इस्तेमाल करके आप अपने पाचन तंत्र को स्वस्थ व मजबूत बना सकते हैं। दरअसल khajur में फाइबर सहित कई प्रकार के गुणकारी तत्व पाए जाते हैं जो पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में फायदेमंद होते हैं।

 

5. एनीमिया रोगी के लिए है लाभकारी

आज के समय में दुनियाभर में कई लोग अनीमिया रोग से जूझ रहे हैं। चूँकि एनीमिया एक ऐसा रोग है जिसको आप संतुलित खान पान से ही ठीक कर सकते हैं लेकिन एनीमिया एक गंभीर रोग भी है जो कई लोगों की जान ले चुका है। दरअसल एनीमिया रोग खून की कमी के कारण होता है जिसका उपचार आप कई प्रकार के देशी नुस्खों का प्रयोग करके कर सकते हैं।

यदि आप घरेलू नुस्खों से एनीमिया रोग से निजात पाना चाहते हैं तो खजूर का उपयोग कर सकते हैं। आपको बता दें कि खजूर में प्रर्याप्त मात्रा में आयरन पाया जाता है जो एनीमिया रोग में लाभकारी होता है।

 

6. सर्दी खांसी को करता है ठीक

दोस्तों सर्दी खांसी एक ऐसा रोग है जो ऋतू परिवर्तन होने के साथ आता है। हालाँकि सर्दी जुकाम किसी भी समय किसी भी कारणवश किसी भी व्यक्ति को हो सकता है। लेकिन सर्दी खांसी का अधिक समय तक रहना शरीर के लिए नुकसानदायक होता है इसलिए सर्दी खांसी का उपचार सही समय पर करना चाहिए।

आपको बता दें सर्दी खांसी को ठीक करने के लिए सदियों से खजूर का उपयोग किया जा रहा है। अतः खजूर में कई प्रकार के गुणकारी तत्व पाए जाते हैं जो सर्दी खांसी को ठीक करने में फायदेमंद होते हैं।

 

7. रतौंधी रोग में होता है फायदेमंद

रतौंधी रोग आँख से सम्बंधित रोग होता है जो शरीर में विटामिन ए की कमी से होता है। दोस्तों यदि आप सोचते हैं कि रतौंधी एक सामान्य रोग है तो ऐसा नहीं है बल्कि यह भी एक गंभीर रोग है। आपको बता दें रतौंधी रोगी को दिन में तो दिखाई देता है लेकिन रात में नहीं जिसके कारण रोगी को मानसिक व शारीरिक कष्ट का सामना करना पड़ता है।

यदि आप रतौंधी रोग से आँखों की रक्षा करना चाहते हैं तो आपके लिए khajur रामबाण है। दरअसल खजूर में विटामिन ए पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है जो रतौंधी रोग में फायदेमंद होता है।

 

8. गर्भवस्था में होता है फायदेमंद

महिलाओं के लिए गर्भकाल का समय ऐसा होता है जिसमें एक महिला को स्वयं का व गर्भ में पल रहे शिशु की सेहत का ख्याल रखना बेहद जरुरी होता है। इसलिए चिकत्सक गर्भवती महिलाओं के लिए संतुलित व पौष्टिक भोजन को अपनी डाइट में शामिल करने की सलाह देतें हैं ताकि गर्भ में पल रहे शिशु का मानसिक व शारीरिक विकास परिपूर्ण तरीके से हो सके एवं गर्भवती महिला भी स्वस्थ रहे।

आपको बता दें कि गर्भवती महिलायों के लिए खजूर पौष्टिक आहार माना जाता है। दरअसल खजूर में प्रोटीन, आयरन, कैल्शियम, सोडियम, जिंक, कॉपर, विटामिन ए, विटामिन सी सहित कई प्रकार के एन्टीऑक्सडेंट तत्व पाए जाते हैं जो गर्भवस्था में फायदेमंद होते हैं।

 

खजूर के अन्य फायदे | Some Other Benefits of Dates in Hindi

khajur ke fayde

1. वजन कम वालों के लिए खजूर सर्वोत्तम आहार है क्योंकि खजूर में फाइबर व पोटाशियम पाया जाता है जो वजन को कम करने में फायदेमंद होता है।

2. खजूर में कैरोटिनॉइड और फिनोलेक्स एसिड पाया जाता है जो दिल को स्वस्थ रखने में फायदेमंद होता है।

3. खजूर में कई प्रकार के पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं जो दिमाग को तनाव मुक्त करके मस्तिष्क को स्वस्थ बनाने में मददगार होते हैं।

4. यौन समस्यों को ठीक करने में भी khajur का उपयोग फायदेमंद होता है।

5. खजूर में विटामिन ए व विटामिन सी पाया जाता है जो त्वचा और बालों के लिए फायदेमंद होता है।

6. कब्ज की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए खजूर का उपयोग फायदेमंद होता है।

 

खजूर का उपयोग | Uses of (Khajur) Dates in Hindi

dates uses in hindi

खजूर के कई प्रकारों को जानने के बाद कई पाठकों के मन में सवाल चल रहा होगा कि आखिर खजूर के विभिन्न प्रकारों की तरह खजूर का उपयोग भिन्न-भिन्न प्रकार से कैसे किया जा सकता है। तो इस समस्या का समाधान आपको आगे के लेख में मिलने वाला है क्योंकि अब हम आपको बताने वाले हैं कि खजूर का उपयोग आप किस प्रकार से कर सकते हैं।

1. हलवा के रूप में खजूर का उपयोग किया जा सकता है।

2. लड्डू के रूप में खजूर का उपयोग किया जा सकता है।

3. चटनी बनाकर आप खजूर का उपयोग कर सकते हैं।

4. खजूर को दूध में उबालकर खजूर का उपयोग किया जा सकता है।

5. खीर के रूप में खजूर का उपयोग कर सकते हैं।

6. खजूर शेक के रूप में आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

7. जूस के रूप में खजूर का उपयोग किया जा सकता है।

 

खजूर से होने वाले नुकसान | Side Effects of Dates in Hindi

दोस्तों खजूर के जितने फायदे हैं उससे नाम मात्र के खजूर के नुकसान हैं। लेकिन khajur से होने वाले नुकसानों को जानना भी जरुरी है तो चलिए खजूर से होने वाले नुकसान कौन कौनसे हैं जानते हैं।

1. किडनी से पीड़ित रोगियों के लिए चिकत्सक का परमार्श लेकर ही खजूर का सेवन करना चाहिए क्योंकि खजूर का उपयोग किडनी में संक्रमण को उत्पन्न कर सकता है। जिसके कारण किडनी में कई प्रकार की परेशानियां उत्पन्न हो सकती है।

2. मधुमेह रोगियों के लिए खजूर का अधिक उपयोग हानिकारक होता है क्योंकि खजूर में शुगर की मात्रा पाई जाती है। अतः खजूर रक्त में ग्लूकोज के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है।

3. खजूर का गलत तरीके से सेवन करने पर पेट में दर्द हो सकता है। इसके आलावा दस्त की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है।

4. खजूर का अधिक सेवन करने से पेट में ऐंठन हो सकती है।

 

तो दोस्तों ये थी खजूर (dates in hindi) से जुड़ी कुछ जानकारी। हम आशा करते हैं की आप khajur के फायदे और नुकसानों से परिचित हो गए होंगे। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के बीच शेयर जरूर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें।
हमसे जुड़े रहने के लिए पास में दिए घंटी के बटन को दबा कर ऊपर आये नोटिफिकेशन पर Allow का बटन दबा दें जिससे की आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here